Skip to content

बेशुमार धन-दौलत मान-मर्यादा पाने के लिए इन बातों का रखें ध्यान।

दोस्तों, जिंदगी में बेशुमार धन-दौलत मान-मर्यादा पाने के लिए या जीवन में जल्दी सफलता हासिल करने के लिए इंसान इतना उत्सुक रहते हैं। इंसान हर वो तकलीफ़ और बाधाओं से मुकाबला करने के लिए तैयार होता है, जो उनके सफलता के बीच रुकावट पैदा करते हैं। लेकिन कुछ ऐसी छोटी-छोटी आदत हैं, जिसपर उनका ध्यान नहीं जाता है। बेसुमार धन दौलत पाने के लिए जीतोड़ मेहनत करना होता है, लोगो के साथ उत्तम व्यवहार के साथ खुद को हमेशा सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर रखना होगा।

कुछ ऐसी बातें जो उनके सफलता पाने की संघर्ष को कम करती है और सकारात्मक ऊर्जा से उनके मन मस्तिष्क को कड़ी मेहनत के लिए प्रेरित करते रहती है। इन बातों का ध्यान रख कर इंसान अपने जीवन में हर वो लक्ष्य को साकार करने की काबिलियत रखता है, जो उनके मन में विचार आते हैं।

जीवन गूगल जैसा ही है। आपको बस यह जानने की जरूरत है कि, आप क्या खोज रहे हैं।

सोच ही परिणाम है – ( E-Bbok )
बेशुमार धन-दौलत मान-मर्यादा पाने के लिए

बेशुमार धन-दौलत, मान-मर्यादा पाने के रहस्य

हमेशा अच्छा सोचे :

हमेशा उन सपनों के बारे में सोचे, जिनसे आप प्रेम करते हैं। हमेशा उस लक्ष्य के बारे में सोचे, जिसे आप पाना चाहते हैं। हमेशा दूसरों को प्रेम दे, हमेशा दूसरों से मधुरवानी में बोले, हमेशा अपने प्रिय घटना के बारे में सोचे, अपने दिमाग़ से संघर्ष जैसे शब्दों को निकाल दे।

इससे आप आसानी से अपने लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं। अपने दिमाग़ में लक्ष्य तक पहुंचने की तस्वीर देखे और ईश्वर को धन्यवाद करे कि “उसने आपकों अच्छे सपने दिखाए और आपके लक्ष्य तक पहुंचा चुके हैं।

जैसे – आप किसी चीज को ऑनलाइन ऑर्डर कर देते हो आप निश्चिंत हो जाते हो। और आपके घर तक वो चीज पहुंच जाती है।

नकारात्मक लोगों एवं विचारों से दूरी बनाए :

आप बहुत अच्छे मूड में हैं। आप का दिन बहुत अच्छा गुजर रहा है। आप खुशी के साथ कोई भी मुद्दे पर बातचीत कर रहे हैं, अचानक “वह इंसान” आप के सामने कुछ ऐसी प्रतिक्रिया व्यक्त करता जिससे आपको ठेस पहुंचती।

वह जो हर समय आप को तुच्छता का अनुभव कराता है और गुस्सा दिलाता है। ये वही इंसान हैं, जो आप को हानि पहुँचा सकता है, इन्हें अपनी ज़िंदगी बरबाद ना करने दें। ये सिर्फ़ तभी ऐसा कर सकते हैं, जब “आप” इन्हें ऐसा करने देंगे।

आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि कितना भी विकट परिस्थिती क्यों न हों नकारात्मक विचार आपके मन में न आयें। खुद को हीन भावना से प्रभावित होने से बचाएं।

ये भी पढ़े : नकारात्मक विचार को अपने दिमाग से कैसे निकाले – How to Stop Negative Thoughts in hindi

अपने निर्णय आप स्वयं लें :

बहुत लोगों की आदत होती है, किसी अन्य के द्वारा लिए गए फैसलों को अपना अंतिम निर्णय मानना। ऐसे लोगों में खुद के ऊपर से भरोसा उठ जाता है, ज्यादातर मामलों में ऐसे लोग बाद में असफल होकर खुद को ठगे महसूस करते हैं।

आपने भी गौर किया होगा – बहुत से लोग इस तरह की बातें कहा करते हैं “मेरे माता-पिता चाहते थे क़ि मैं ये करूँ, तो मैने किया”, या “मेरी बहन ने मुझे ऐसा करने की सलाह दी, तो मैने मान ली।” क्या आप अपनी ज़िंदगी के सारे निर्णय अन्य लोगों की सोच से करना चाहते हैं?

हाँ, यह सच है, कभी-कभी हमें अन्य लोगों के नज़रिए को ध्यान में रखकर निर्णय करना पड़ते हैं। लेकिन हर समय ऐसा करना आप के लिए ग़लत भी साबित हो सकता है।

अपने लक्ष्य को निर्धारित करें :

हर एक प्राणी के जीवन में कोई ना कोई लक्ष्य ज़रूर होता है, और लक्ष्य अपने आप ही पूरे नहीं हो जाते। आप को इन का पीछा करने के लिए तैयार रहने की ज़रूरत होती है।

लक्ष्य की प्राप्ति के लिए लक्ष्य को निर्धारित करना उतना ही जरूरी है, जितना कहीं भी जाने के पहले कहाँ पहुंचना है इसके बारे में आप तय करते हैं।

समय की बर्बादी से बचें :

सफलता हासिल करने के लिए लक्ष्य निर्धारण के बाद सबसे महत्वपूर्ण चीज है, समय का प्रबंधन।

दिन में कुल 24 घंटे होते हैं। ये समय कभी भी न कम हुआ है या न कभी ज्यादा हो सकता है।

इस समय का उपयोग हम अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम पूरे करने में करते हैं। हालांकि, कोशिश करने के बावजूद सही टाइम मैनेजमेंट न होने के कारण हमारा काफी वक्त वेस्ट हो जाता है।

तो इसके लिए हमें यह देखना होगा किस प्रकार बर्बाद हो जाता है समय और जब यह पता चले कि इन गैर-जरूरी काम से समय का दुरुपयोग हुआ है तो उसे नहीं करें।

हमेशा अपने लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए कार्य करते रहे।

कठिन परिश्रम करने के लिए तैयार रहें:

लक्ष्य को जल्दी हासिल करने के लिए कठिन परिश्रम करने होंगे। तभी हम अपने मंजिल तक समय से पहुंच सकते हैं। जितने ज्यादा मेहनत

सफलता पाने के लिए चाणक्य की नीतियां:

  • -चाणक्य नीति अनुसार अनुशासन व्यक्ति को कार्यों में शुद्धता और सफलता दोनों प्रदान करता है। अनुशासित लोगों को लक्ष्यों में सफलता प्राप्त करने में अधिक कठिनाई नहीं होती है।
  • -चाणक्य नीति कहती है कि सुबह उठने की आदत डालें। जो व्यक्ति सुबह उठता है उसमें आलस का नामों-निशान नहीं होता और जिस व्यक्ति में आलस नहीं होगा वो अपने हर काम को अच्छे से पूरा कर सकेगा।
  • -चाणक्य नीति अनुसार विनम्रता ही वो गुण है जो व्यक्ति को हर जगह सम्मान दिलाती है। विनम्र आचरण वाला व्यक्ति जीवन में कभी असफल नहीं हो सकता।
  • -व्यक्ति की वाणी जितनी मधुर होती है व्यक्ति उतना ही जीवन में आगे बढ़ता है। मधुर वाणी वाला अपनी बोली से हर किसी का दिल जीत लेता है और हर जगह सम्मान पाता है।
  • -चाणक्य नीति अनुसार जो भी काम करें उसे ईमानदारी और कड़ी मेहनत के साथ करें। ऐसे में व्यक्ति को हर हालत में सफलता मिलकर ही रहती है।
  • -व्यक्ति जो भी काम कर रहा है उसे उस पर अपना ध्यान केंद्रित करके रखना चाहिए। व्यक्ति की सफलता उसकी एकाग्रता पर निर्भर करती है।
  • -सफलता पाना चाहते हैं तो व्यक्ति के अंदर आत्मविश्वास होना चाहिए और उसे खुद पर भरपूर विश्वास होना चाहिए।

ये भी पढ़े : Passive income sources in hindi 2022 | बिना कुछ किए आमदनी का जरिया

निष्कर्ष: इस लेख में मैं आपको वो सभी बातों के बारे में बताया हूँ, जो बेशुमार धन-दौलत, मान-मर्यादा पाने के लिए ये मददगार साबित होगी। पैसा कमाने का कोई शॉर्टकट नहीं होता ये बात हर कोई जानता है, लेकिन नकारत्मक विचारो का प्रभाव उनके कार्य पर पड़ता है, नेगेटिव हो कर लोग मेहनत नहीं करते। अपने मन पर नियंत्रण बना कर जो काम करेंगे उसमे आपको अवश्य सफलता मिलेगी। जिससे धन-दौलत, मान-मर्यादा के साथ आपको एक अलग सुकून मिलेगा।

Join the conversation

Your email address will not be published. Required fields are marked *