Rate this post

इस पोस्ट में मैं मेडिकल स्टोर बिज़नेस कैसे शुरू करें। इसके बारें में बताऊंगा। अगर आप भी दवा की दुकान खोलने का बिज़नेस प्लान कर रहे हैं। तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़े, मेडिकल स्टोर शुरू करने से बिज़नेस बड़ा करने तक की पूरी जानकारी दी गयी है।

किसी भी बिज़नेस को शुरू करने से पहले लोग उसके बारे में थोड़ी रिसर्च जरूर करते हैं। अगर आप भी किसी बिज़नेस करने के बारे में सोच रहे हैं, तो मेडिकल स्टोर का बिज़नेस काफी फायदेमंद हो सकता है। इस बिज़नेस की सबसे खास बात यह है कि,चाहे सर्दी हो, गर्मी या बरसात हो किसी भी मौसम में दवाइयों की दुकान बंद नहीं होती। उदाहरण के लिए आप अपने क्षेत्र के किसी दवा की दुकान को देखें, जो दवाइयों के सभी मेल रखते हों।

हल्की सी खांसी हो या कोई बड़ी बीमारी, दवाइयों की आवश्यकता हमारे जीवन में हर किसी को होती है। अगर देखा जाये तो दवाई हमारे जीवन का एक हिस्सा है। इसीलिए यह काफी चलने वाला बिज़नेस प्लान है। आप मेडिकल स्टोर शुरू करके बढ़िया पैसा कमा सकते हैं। मेडिकल स्टोर खोलने से पहले आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होता है। जिसके बारे में आगे हम विस्तार से बात करेंगे।

इस पोस्ट में हम इन चीज़ों को cover करेंगे-:

मेडिकल स्टोर क्या होती है ?

मेडिकल स्टोर मतलब है दवाई का दुकान,केमिस्ट की दूकान। डॉक्टर द्वारा बताये गए दवाई को हम किसी मेडिकल स्टोर से ही खरीदते हैं। यहाँ सभी दवाइयों का मेल होता है। किसी बीमारी की दवा अगर हमलोग जानते हैं, तो बिना पर्ची के भी मेडिकल स्टोर से दवा मिल जाती है। इसके अलावा मेडिकल स्टोर में स्वास्थ से जुडी हर तरह की चीज़े उपलब्ध होती है।

मेडिकल स्टोर बिज़नेस कैसे शुरू करें

मेडिकल स्टोर का बिज़नेस वही कर सकते हैं,जो पढ़ा लिखा हो। वैसे अनपढ़ लोग जिनके पास पैसा है, वो भी दवा की दुकान खोल सकते हैं, लेकिन उन्हें विश्वासी स्टाफ को रखना होगा। जो पढ़ा लिखा हो और दवाइयों का ज्ञान हो।

उसके बाद दुकान के लिए एक अच्छी लोकेशन देखकर तैयार रहें। आसपास अगर कोई क्लिनिक या हॉस्पिटल हो तो बहुत बढ़िया। आपकी दुकान से ज्यादा कमाई की सम्भावन बढ़ जाएगी। फिर नगरपालिका या नगर परिषद् से दुकान खोलने का आदेश लें। ( सभी क्षेत्रों के अलग नियम होते हैं ) उसके बाद ड्रग लाइसेंस के लिए अप्लाई करें।

यहाँ दो चीज़े हैं, पहला दुकान की लाइसेंस और दूसरा ड्रग लाइसेंस। दोनों के बारें में विस्तार से नीचे जानेंगे। उसके बाद ही कंपनी या होलेसले से दवाइयों की खरीदारी में पूंजी लगाएं और दूकान में फर्नीचर बगैरा काम शुरू कराएं।

मेडिकल स्टोर बिज़नेस प्लान की योग्यता

मेडिकल स्टोर खोलने के लिए सबसे पहले आपको ड्रग लाइसेंस की जरुरत होती है। ड्रग लाइसेंस के लिए वही व्यक्ति Apply कर सकता है, जो Science ( बायोलॉजी ) से 12वीं पास हो और उसके पास फार्मासिस्ट की डिग्री हो।

ऐसा जरुरी नहीं है कि दुकान मालिक के पास डिग्री हो। किसी के नाम पर दुकान की लाइसेंस ली जा सकती है। चाहे वो आपका रिस्तेदार हो या कोई फार्मासिस्ट स्टाफ। मेडिकल स्टोर बिज़नेस प्लान की योग्यता यही है। पहले आप ड्रग लाइसेंस के लिए Apply करें, जब लाइसेंस मिल जाये, तो इस मेडिकल स्टोर बिज़नेस को शुरू कर सकते हैं।

फार्मासिस्ट क्या होता है ?

फार्मेसी शब्द से फार्मासिस्ट बना है। जो लोग फार्मेसी का कोर्स करते हैं, उन्हें फार्मासिस्ट कहा जाता है। फार्मेसी में दवाईया कैसे बनती है, दवाइयों के डोज, स्टोरेज से सबंधित चीजे पढाई जाती है। मेडिकल स्टोर के लिए जरुरी है, फार्मासिस्ट की डिग्री, इसमें डॉक्टर द्वारा लिखे गए दवाइयों के वितरण के संबंध में जानकारी मिलती है। फार्मेसी के अंतर्गत मुख्यतः 4 तरह के कोर्स होते हैं। जिनमें कोई भी कोर्स की डिग्री से दवाई की दुकान खोली जा सकती है।

फार्मासिस्ट की ट्रैंनिंग कहाँ से करें ?

गवर्नमेंट और कुछ प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन के लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम क्वालीफाई करना होता है , जिसके आधार पर आपको एडमिशन मिलेगा। लेकिन, बहुत से ऐसे भी प्राइवेट कॉलेजों हैं, डायरेक्ट 12वीं के बाद दाखिला मिल जाता है। प्राइवेट कॉलेजो में आपको फीस काफी ज्यादा देनी होती है। जोकि 80 हजार से 1.25 लाख प्रतिबर्ष के बीच हो सकती है। इस कोर्स के सर्टिफिकेट के संबंध में विशेष जानकारी के लिए किसी कंसलटेंट से संपर्क कर सकते हैं। वो आपकी पूरी तरह मदद करेंगे।

admission consultant , certificate courses in hindi,
मेडिकल स्टोर खोलने के लिए फार्मेसी कोर्स की डिग्री की जरुरत होती है।

D Pharma की अवधि 2 साल और B Pharma की अवधि 4 साल होती है। कोर्स को पूरा करने के बाद आपको अपने स्टेट के फार्मेसी कौंसिल ऑफ इंडिया में पंजीकृत करना होगा। जिसके बाद आप Pharmacist के तौर पर काम कर सकते हैं।

बिना डिग्री मेडिकल स्टोर का बिज़नेस कैसे शुरू करें

बिना दुकान की लाइसेंस और ड्रग लाइसेंस आप इस बिज़नेस को नहीं कर सकते हैं। यह गैर क़ानूनी है। मेडिकल स्टोर का बिज़नेस शुरू करने के लिए किसी ऐसे स्टाफ की तलाश करें, जो फार्मेसी का कोई कोर्स किया हो। बहुत से लोग किसी दूसरे लोगो के नाम पर डिग्री लेकर खुद से ही दूकान चलाते हैं।

आप ऐसे स्टाफ को दुकान में रखें जो कोर्स किया हो और दवाई की जानकारी रखता हो। उसके ही नाम पर ड्रग लाइसेंस के लिए अप्लाई करें। बदले में आप उसको सैलरी से बढाकर कुछ ज्यादा पैसे देंगे,तो आपका काम हो जायेगा। जिस आदमी के नाम पर ड्रग लाइसेंस हो वह दुकान का स्टाफ या मालिक होना चाहिए।

दवा की दुकान खोलने के फायदे

मेडिकल स्टोर का बिज़नेस आमतौर पर आर्थिक बदलावों से अप्रभावित होते हैं। इस बिज़नेस में आपको न ही ख़राब मौसम की, न ही महामारी आपदाओं जैसी मंदी की मार झेलनी पड़ती है। जिस तरह से भारत में स्पेशिएलिटी, अस्पताल तेजी से लोकप्रिय हो रहे हैं। तो मेडिकल स्टोर का बिज़नेस भी चलने की संभावना बढ़ी है। भारत में एक मेडिकल स्टोर खोलना एक बढ़िया विकल्प है। हालांकि, यह ध्यान रखना आवश्यक है कि व्यवसाय में सफल होने के लिए मेडिकल स्टोर शुरू करने से पहले आपको ठीक से योजना बनानी होगी।

मेडिकल स्टोर लाइसेंस के लिए जरुरी दस्तावेज़

लगभग सभी राज्यों के लिए दस्तावेज़ समान ही हैं। हालांकि, कुछ राज्यों को कुछ अतिरिक्त दस्तावेजों और सूचनाओं की आवश्यकता हो सकती है। मेडिकल स्टोर बिज़नेस शुरू करने के लिए राज्य के औषधि नियंत्रण विभाग के समक्ष ये कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज प्रस्तुत करना होगा :

  • निर्धारित प्रारूप में फार्मेसी लाइसेंस आवेदन पत्र 
  • आवेदक के नाम और पदनाम के विवरण के साथ विधिवत हस्ताक्षरित कवरिंग पत्र  
  • पंजीकरण प्राप्त करने के लिए जमा शुल्क का चालान 
  • घोषणा पत्र , परिसर के लिए खाका या मुख्य योजना, साइट योजना (ब्लूप्रिंट) 
  • परिसर के कब्जे का आधार (किराए पर या स्वामित्व वाला) 
  • मालिक/साझेदारों का पहचान प्रमाण और फोटो 
  • स्वामित्व का प्रमाण, यदि किराए पर लिया गया हो।
  • निगमन प्रमाणपत्र / एमओए / एओए / भागीदारी विलेख
  • ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट, 1940 के तहत प्रोपराइटर या पार्टनर्स या डायरेक्टर्स के गैर-दोषी का हलफनामा 
  • पंजीकृत फार्मासिस्ट या पूर्णकालिक काम करने के इच्छुक सक्षम व्यक्ति का शपथ पत्र 
  • एक पंजीकृत फार्मासिस्ट या सक्षम व्यक्ति का नियुक्ति पत्र, यदि कार्यरत है।

दवा की दुकान खोलने के लिए आवश्यक चीज़ें

मेडिकल स्टोर के पंजीकरण के लिए अनिवार्य

  • फार्मेसी लाइसेंस : जैसा कि मैं आपको पहले बता चूका हूँ , मेडिकल स्टोर खोलने के लिए डी फार्मेसी कोर्स की डिग्री अनिवार्य है। यदि व्यवसाय शुरू करने वाला व्यक्ति एक योग्य फार्मासिस्ट नहीं है, तो उसे फार्मेसी की डिग्री के साथ एक फार्मासिस्ट को नियुक्त करना होगा।
  • भूमि पंजीकरण : मेडिकल स्टोर लाइसेंस के लिए आवेदन से पहले आपको भूमि पंजीकरण के लिए अपना दस्तावेज तैयार करना है। अगर आपकी अपनी भूमि है या खरीदना चाहते हैं, तो आपको बिक्री विलेख की एक प्रति जमा करनी होगी। किराए की दुकान के मामले में, किराये के समझौते की एक प्रति जमा करनी होगी। खुदरा, चिकित्सा दुकान, स्थापित करने के लिए आवश्यक न्यूनतम स्टोर क्षेत्र कम से कम 10 वर्ग मीटर है। यदि आप एक ही छत के नीचे एक संयुक्त थोक और खुदरा व्यापार शुरू करना चाहते हैं, तो कम से कम 15 वर्ग मीटर का क्षेत्र आवश्यक है।
  • फार्मेसियों का पंजीकरण : सभी मेडिकल स्टोर या फार्मेसियों को भारतीय फार्मेसी अधिनियम, 1948 के अनुसार पंजीकृत होना चाहिए। मालिक को मेडिकल स्टोर बिजनेस मॉडल का निर्धारण करना चाहिए। यदि कोई व्यक्ति स्टैंड-अलोन मेडिकल स्टोर खोलना चाहता है, तो वह एक प्रोपराइटरशिप बिजनेस या पार्टनरशिप फर्म का विकल्प चुन सकता है।
  • व्यवसाय का पंजीकरण : व्यवसाय को एकमात्र स्वामित्व, साझेदारी फर्म या प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के रूप में पंजीकृत करना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह ड्रग लाइसेंस प्राप्त करने के लिए आवश्यक है।
  • कर पंजीकरण : भारत में किसी भी व्यवसाय को संचालित करने के लिए, माल और सेवा कर (जीएसटी) पंजीकरण आवश्यक है। ( इसके लिए अलग अलग टैक्सेज की नियम कायदे हैं। आप किसी टैक्स प्रोफेशनल से संपर्क कर के जानकारी ले सकते हैं। )
  • ड्रग लाइसेंस के लिए पंजीकरण : हर मेडिकल स्टोर, चाहे वह बड़ा हो या छोटा, को ड्रग लाइसेंस की आवश्यकता होगी, चाहे उसका कारोबार कुछ भी हो। नीचे उल्लिखित दो प्रमुख दवा लाइसेंस जारी करने की जिम्मेदारी केंद्रीय और राज्य औषधि मानक नियंत्रण संगठन को सौंपी गई है। 1.रिटेल ड्रग लाइसेंस (RDL), 2. थोक दवा लाइसेंस (WDL)

शुरुआत में कितनी पूंजी लगाएं

एक मेडिकल स्टोर खोलने के लिए आपको अच्छी पूंजी निवेश करनी होती है। क्योंकि इसमें आपको दवाइयों का मेल रखना होता है। ताकि ग्राहक को आपके दुकान से लौटना न पड़े। इसके रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया और अन्य सभी चीजों को जोड़कर अगर पूंजी की बात करें तो 5 लाख से 10 लाख तक हो सकती है। जिसमे आपकी एक अच्छी मेडिकल स्टोर ओपन हो जाएगी।

वहीं अगर आप बिज़नेस के क्षेत्र में नए हैं तो आप कम से कम पूंजी से ही मेडिकल स्टोर बिज़नेस की शुरुआत करें। आवश्कतानुसार, दुकान चलने के स्थिति में और निवेश कर सकते हैं।

मेडिकल स्टोर बिज़नेस प्लान के लिए पूंजी कहाँ से लाएं

मेडिकल स्टोर का बिज़नेस शुरू करने के लिए शुरुआत में कुछ पैसे आपको लगाने पड़ते है। बाद में आपको लोन मिल जाएगी। वहीँ आप अगर शुरुआत में भी पूंजी निवेश करने के लिए नहीं है, तब आपको बिज़नेस लोन मिल सकती है। हालाँकि इसके कुछ नियम है , जो आपको पूरा करना होता है। इनकम प्रूफ के लिए आपको दस्तावेज दर्शाना होगा। आप किसी CA या Bank स्टाफ से संपर्क कर सकते हैं।

मेडिकल स्टोर के साथ और कौन सी सर्विस दें

मेडिकल स्टोर काफी चलने वाले बिज़नेस में से एक है , ऐसे में आपको अपने स्टोर में मेडिकल से जुडी हुयी अन्य सामान भी रखनी चाहिए। जैसे : Health & Fitness , Mother & baby Care , Feminine Care.. etc.आप चित्रों द्वारा इसे देख समझ सकते है।

दवा की दुकान को बड़े स्तर तक कैसे ले जाएँ।

बिज़नेस शुरू करने से पहले विचार करने के लिए एक महत्वपूर्ण बिंदु अपने बिज़नेस को कैसे बड़ा करेंगे इसकी प्लानिंग होती है । ये इतना आसान नहीं है जितना आप समझते हैं। यदि आप कई कारकों पर विचार करते हैं तो यह सबसे अच्छा होगा। कम्पटीशन से दूर रहने के लिए बिना मेडिकल स्टोर वाली जगह या जहाँ कम मेडिकल स्टोर हो,वैसे जगह का चुनाव करना जरूरी है। इसके अलावा, अगर मेडिकल स्टोर किसी डॉक्टर के अस्पताल या निजी क्लिनिक के पास है, तो यह संभावित ग्राहकों के नियमित प्रवाह को सुनिश्चित करेगा। यदि आप एक अच्छे स्थान का चयन नहीं करते हैं, तो आपकी दुकान का अच्छा प्रदर्शन करना और उसे बनाए रखना कठिन होगा। आप भविष्य में अपने बिज़नेस को बड़ा नहीं कर पाएंगे।

1. डॉक्टर से गठबंधन करें : अपने मेडिकल स्टोर में उपलब्ध दवाओं की जानकारी डॉक्टर को देकर, मरीजों को वही दवा लिखने को कहें। इसके लिए आपको बढ़िया क्वालिटी और कंपनी का भी खास ध्यान रखना होगा ,ताकि दवाओं का पूर्ण लाभ मरीजों को भी मिले और डॉक्टरों को वह दवाई लिखने में आपत्ति न हो। क्लिनिक या डॉक्टर के साथ एक अनौपचारिक गठजोड़ आपके व्यवसाय को बड़े पैमाने पर मदद करेगा और आपके अच्छा करने की संभावनाओं को बढ़ाएगा।

2. किसी कंपनी या प्रोडक्ट की फ्रैंचाइज़ी लें : जब आपको लगे की अब बिज़नेस से सही लाभ हो रहा है और इसे बढ़ाना चाहिए ,तो आप किसी कंपनी या प्रोडक्ट की फ्रैंचाइज़ी लें सकते हैं। जहाँ अगर आप थोक के साथ रिटेल का काम करेंगे तो आपकी मेडिकल स्टोर बिज़नेस को बड़ा करने में ज्यादा सहयोग मिलेगा।

3. बिज़नेस का प्रचार जरुरी है : गूगल माय बिज़नेस के साथ सोशल मीडिया प्लेटफार्म में अपने मेडिकल स्टोर की प्रोफाइल बनायें। साथ में आप स्थानीय समाचार पत्रों में विज्ञापन देकर या अपने स्टोर के क्षेत्र या आस-पास के स्थानों में पैम्फलेट वितरित करके अपने व्यवसाय का प्रचार शुरू कर सकते हैं। दवाओं के अधिकतम खुदरा मूल्य पर छूट देने से भी आपकी दुकान के प्रचार में मदद मिल सकती है।

4. पर्याप्त मात्रा में भंडारण और आवश्कतानुसार कर्मी को रखें : किसी भी व्यवसाय के लिए यह आवश्यक है कि, उनके माल ख़राब न हो या ज्यादा भीड़भाड़ में दुकानदारी में समस्या उत्पन्न न लें तो उचित भंडारण की व्यवस्था जरुरी है। इसके साथ कई बार कम स्टाफ के कारण से भी इस तरह की समस्या होती है ,तो कुशल कर्मी की तलाश कर उसे काम पर रखें। आपके बिज़नेस के स्टॉक और अकाउंट को देखने के लिए एक कंप्यूटर ऑपरेटर का होना जरुरी होता है।

निष्कर्ष 

मेडिकल के फील्ड में कोई भी बिज़नेस बहुत ही सफल बिज़नेस माना जाता है ,वसर्ते बिज़नेस नियम के साथ किया जाना चाहिए। छोटे से मेडिकल स्टोर खोलकर काफी बड़ा स्तर तक ले जाया जा सकता है। यह बहुत ही फायदेमंद व्यव्साय है। उम्मीद करते हैं यह बिज़नेस प्लान आपको बढ़िया तरह से समझ आया होगा। अगर आपका कोई सवाल मेडिकल स्टोर कैसे खोलें से सम्बंधित है ,तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। वैसे कुछ महत्वपूर्ण सवाल जो अक्सर लोगों द्वारा पूछा जाता है ,नीचे दी गयी है। सफल बिज़नेस आइडियाज के लिए आप मुझे फॉलो कर सकते हैं।

पूछे जाने वाले प्रश्न

1. मेडिकल लाइसेंस कैसे बनवाएं ?

पहले तय करें कौन सा मेडिकल लाइसेंस चाहिए। रिटेल या थोक वाला उसके बाद आप केंद्रीय और राज्य औषधि मानक नियंत्रण संगठन से लाइसेंस के लिए संपर्क कर सकते हैं। बी फार्मा या डी फार्मा करने के बाद आपको मेडिकल स्टोर खोलने का लाइसेंस बहुत ही आसानी से प्राप्त हो जाता है ! इसके लिए आपको राज्य फार्मेसी काउंसिल में पंजीकृत होना पड़ता है उससे आपको उस क्षेत्र में मेडिकल स्टोर खोलने का लाइसेंस मिल जाएगा।

2. बिना डिग्री मेडिकल स्टोर कैसे खोलें ?

बिना डिग्री मेडिकल स्टोर आप नहीं खोल सकते हैं। इसके लिए आपके पास मेडिकल फार्मेसी ( D.PHARMA / B.PHARMA) के डिग्री होना आवश्यक है। आप ऐसा कर सकते हैं,किसी और के डिग्री पर मेडिकल स्टोर का लाइसेंस लें और दर्शाये की वह व्यक्ति आपका स्टाफ है। यानि मेडिकल स्टोर के लाइसेंस के लिए या तो आपके पास डिग्री हो या आपके स्टाफ के पास।

3. मेडिकल स्टोर खोलने के क्या क्या करना पड़ता है ?

एक मेडिकल स्टोर खोलने के लिए सबसे पहले जमीन का पेपर, किराये पर हो तो किरायेनामे ,फार्मेसी का डिग्री और मेडिकल स्टोर की लाइसेंस ये सबसे महत्वपूर्ण है। आपको सबसे पहले दुकान के लाइसेंस के लिए अप्लाई करना होगा, जिसमे दुकान मालिक का परसनल दस्तावेज, जमीन की दस्तावेज और फार्मेसी की डिग्री ( स्टाफ की डिग्री भी चलेगी ) देनी होती है। अगर आप यह सब कर लेते है तो मेडिकल स्टोर लाइसेंस के बाद दुकान खोल सकते हैं।

Leave a Comment