Skip to content

मन शांत क्यों नहीं रहता है ? जानिए मन शांति के 10 उपाय ।

5/5 - (4 votes)

नमस्कार दोस्तों , यह पोस्ट अगर आप पूरा पढ़ेंगे तो आपको पता चल जायेगा, मन शांत क्यों नहीं रहता है ? हमारा दिमाग हमेशा कुछ ना कुछ सोचता ही रहता है ! कभी positive तो कभी negative, इसी बारे में सोच कर हमारा मन और विचिलित हो जाता है और हम अपने जरूरी काम से अपना फोकस हटा लेते हैं ! जिससे हमारा काफी नुकसान होता है !

हमारा मन अशांत रहने के बहुत से कारण हो सकते है। हम अनेक समस्या के बारे में सोचते रहते हैं। वह समस्या जो कभी शायद हमारी जिंदगी में आएगी ही नहीं। उसके बारे में सोच-सोच के मन को अशांत करते रहते हैं। कभी जिंदगी में आगे क्या होगा ? परिवार का क्या होगा ? मैं ऐसा हूँ ,वैसा हूँ और भी बहुत बातें, जैसे पढ़ने वाले बच्चे सोचते हैं कि मेरा पढ़ाई में मन नहीं लगता है। यदि परीक्षा में फेल हो गया तो क्या होगा? नौकरी करने वाले कर्मचारी सोचते हैं,यदि नौकरी छूट गया तो क्या होगा? बिजनेस करने वाले व्यक्ति सोचते हैं यदि बिजनेस में नुकसान हो गया तो क्या होगा?

यह सब व्यर्थ बातों की संभावना बहुत कम रहती है। लेकिन सोच सोच कर ही हम अपने आप को दुखी और अशांत करते रहते हैं। फालतू के चिंता और टेंशन में रहते हैं। आज के नौजवानों को मन अशांत रहने का एक बड़ा कारण यह भी है कि यदि भविष्य में मैं कुछ ना कर पाया तो मेरा क्या होगा? इस सभी समस्याओं का मैं आपको निवारण बताऊंगी।

मन शांत क्यों नहीं रहता है ?

इंसान के अंदर छिपा नकारात्मक शक्तियां होती हैं, जो मन शांत नहीं रहने का सबसे बड़ा कारण है। जिन लोगों को अपने जीवन से शिकायतें हैं, जो लोग अपने जीवन से संतुष्ट नहीं है, या अपने आप को हीन दृष्टि से देखते हैं। उनका मन कभी भी शांत नहीं हो सकता है। ऐसे लोग हमेशा अशांत रहते हैं और मानसिक तनाव का सामना करते हैं।

मन में हमेशा हमारे जीवन से सम्बंधित बातें चलती रहती है। लेकिन हमें यह नहीं पता होता यह हमारे लिए कितना नुकसान दायक है। हमेशा मन अशांत रहने पर हमारे स्वास्थ पर इसका असर पड़ सकता है , कई गंभीर बीमारियां जैसे हाई ब्लड प्रेशर , लो ब्लड प्रेशर, सर दर्द ,डिप्रेसन के शिकार हो सकते हैं।

अगर मन अशांत हो तो क्या करना चाहिए?

अगर मन अशांत हो तो हमें अपने मन को दिमाग में चल रही समस्याओ से अलग करना चाहिए। इस अवस्था में हमें अपने आप को सँभालने की हर संभव प्रयास करना चाहिए। जिससे हमारे स्वास्थ और रोजमर्रा की जिंदगी प्रभावित न हो।

आइये यहाँ मैं आपको कुछ मन शांत रखने के उपाय बता रही हूँ।

जानिए मन शांति के 10 उपाय

जानिए मन शांति के 10 उपाय

जानिए मन शांति के 10 उपाय : निम्नलिखित बातों का अमल कर के आप अपने मन को शांत रख सकते हैं। ये सभी बातें हर इंसान के जिंदगी को सफल बना सकती है। हर इंसान को ऐसा जरूर करना चाहिए।

गहरी सांस लेने वाली व्यायाम करें : जब भी आपको ऐसा लगे की मन अशांत है या कोई बातें आपको परेशान कर रही है , तो सर्वप्रथम आप गहरी सांस लेने वाली एक्सरसाइज करें। यह आपके मन और दिमाग को एकाग्र करने में काफी फायदेमंद साबित होगा। इस प्रक्रिया को आप रोजाना अपने दिनचर्या में जोड़ सकते हैं।

मन को शांत करने के लिए मैडिटेशन करें: हमारे मन में चल रही नकारात्मक विचारो को दूर करने के लिए मैडिटेशन बहुत जरुरी है ! मैडिटेशन करने वक़्त इस बात के बारे में निश्चय कर ले की आपको सिर्फ और सिर्फ सकारात्मक सोच रखनी है।

इसके लिए शांत जगह को चुनें। इसमें आपको बस किसी अच्छे वस्तु, रंग, शब्द आदि पर ध्यान केंद्रित करना होता है। इसे सुबह और शाम अवश्य करना चाहिए।

पसंदीदा गतिविधियां करें : अगर आप चाहते हैं की इधर – उधर की बात दिमाग में ना आये। जिस कारण आपका मन विचिलित होता है तो आप पसंदीदा गतिविधियां करें। हर इंसान का अलग अलग शौक होता है।

जैसे – गाना सुनना , खाना पकाना , कोई खेल खेलना , पेंटिंग करना और अन्य। इस गतिविधियों में लगे रहने से नकारात्मक विचार आपसे दूर रहेंगे और आप खुश भी रहेंगे।

प्रकृति के साथ समय बिताएं : जिनका मन और दिमाग शांत नहीं रहता उन्हें किसी काम में मन नहीं लगता है। इसके लिए वो बाहर घूमने जा सकते है। हरी भरी प्रकृति को देखकर खुश होवें और मानसिक शांति का अनुभव करें। सुबह सुबह जल्दी उठ कर प्रकृति का आनंद लेने से दिन भर ताजगी महसूस होती है और जरुरी काम में मन भी लगता है।

सिगरेट और शराब का सेवन न करें : अधिकांश लोग जिनका मन किसी बातों से अशांत रहता है , वे सिगरेट और शराब का सेवन कर अपना दिमाग उन बातों से हटाते हैं। लेकिन इसका सेवन करने पर बस जब तक नशा हो, तब तक ही उन बातो से दिमाग हटता है, फिर वही बात होती है।

इसके नुकसान के बारे सभी जानते हैं। इससे कई गंभीर बीमारियों के साथ मन और ज्यादा अशांत होता है। इसीलिए भूल से भी सिगरेट और शराब का सेवन न करें।

नकारात्मक विचार वाले लोगों से दुरी बनाये : वैसे तो कोई भी इंसान कितना भी सकारत्मक विचार वाला हो। उसका सामना नकारत्मक विचार के लोगों से जरूर होता है। लेकिन हमें उनकी नकारत्मक बातों पर ध्यान नहीं देना चाहिए। उनकी बातों को एक कान से सुनिय और दूसरे से निकालिए। अगर संभव हो तो उस आदमी से दुरी बनायें।

खाली मन में अच्छे विचार लाएं : खुद को अच्छे वाक्यों से प्रेरित करते रहें। नकारात्मक सोच एवं विचारों से बचने के लिए जरूरी है कि स्वयं को मोटिवेट करते रहें। स्वयं को मोटिवेट करने के लिए महापुरुषों के कथनों को पढ़ें, सक्सेसफुल लोगों की जीवनी, प्रेरणादायक कहानियां, पर्सनल डेवलपमेंट आर्टिकल पढ़ें।

खाने-पीने का ध्यान रखें : सही और पोस्टिक भोजन आपको सेहतमंद रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसीलिए ज्यादा तेल मशाला और हानिकारक वस्तुओं के इस्तेमाल से बनाये गए भोजन न करे। पानी प्रयाप्त मात्रा में पिए। घूंट घूंट करके पानी पिए, जल्दीबाजी में न पीये। खाना खाने के आधा घंटा पहले और आधा घंटा बाद आप पानी पी सकते हैं। पानी गुनगुना पीने का आदत अवश्य बनाये।

स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें : प्रतिदिन नहाये और साफ़ वस्त्र पहने। स्वच्छता से सकारात्मक ऊर्जा का आकर्षण होता है। आपके गलत विचार आपसे दूर रहेंगे। हृदय, शरीर और मस्तिष्क को साफ और सब में सैयम बनाए रखना ही पूरी स्वच्छता है। फिर भी हमें अपने चारों को भी साफ रखने की आवश्यकता है ताकि हम साफ और स्वस्थ्य वातावरण में रह सकें।

यह महामारी वाले रोगों से दूर रखने और हमें सामाजिक हित की भावना प्रदान करेगी। यह बहुत पुरानी कहावत है कि “स्वच्छता, भक्ति से भी बढ़कर है”।

प्रयाप्त नींद लें : मन को शांत रखने और अत्यधिक ऊर्जा के लिए प्रयाप्त नींद आवश्यक है। सोने से पहले अपने मोबाइल फ़ोन को ऑफ कर दे या अलग रख दे। जिससे आपको सोने वक़्त नींद में अवरोध पैदा न हो। जब आप अच्छी तरह से नींद पूरा करेंगे तब मन हल्का लगेगा और ताजगी भी महसूस करेंगे।

read more : क्या करें जब कोई रास्ता न दिखे | 5 महत्वपूर्ण रहस्य

अगर आपको लगता है, जीवन जीना बहुत मुश्किल हो गया है। जिंदगी में कुछ सही नहीं चल रहा है तो आज ही इस किताब को खरीदें, मैं आपको गारंटी देता हूँ, इस किताब को पढ़ने के बाद आप अपने आसपास के लोगों के चहेते बन जायेंगे। लोग आपको पसंद करने लगेंगे और इसकी भी उम्मीद है आप कुछ ऐसा करेंगे जो आपका नाम विख्यात हो सकता है। लाखों लोगों ने इन किताबों को पढ़ कर आज विश्व के ऊंचे स्तर पर पहुँच गए , आज उनकी कमाई करोड़ो में हो रही है।

मन शांत क्यों नहीं रहता है ? जानिए मन शांति के 10 उपाय ।

Book Link : यहाँ क्लिक करें Price : Rs. 349.00 (Set of 4 Books)

conclusion

हमारे न चाहते हुए भी बार-बार अनचाहे विचारों का मन में उमड़ना-घुमड़ना एक मनोरोग है। इस रोग को अब इन सभी उपायों से दूर किया जा सकता है ! कोई व्यक्ति ऑब्सेशन नामक मानसिक रोग से पीड़ित होता है, तो उसके मन में विचार दिशाहीन तरीके से बार-बार आते हैं। ऐसे में रोगी न चाहते हुए भी इन व्यर्थ के विचारों में उलझा रहता है और गंभीर तनाव महसूस करता है।

उम्मीद करते हैं यह पोस्ट पढ़ने के बाद आपको बहुत कुछ नया सिखने को मिला होगा। ऐसे ही और पोस्ट पढ़ने के लिए हमारे इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करे और नीचे लाल नोटिफिकेशन घंटी पर क्लिक करके allow कर दे।

Join the conversation

Your email address will not be published.