Hindu Calender 2022: प्रमुख त्योहारों और व्रतों की सूची

Hindu Calender 2022: प्रमुख त्योहारों और व्रतों की सूची

Hindu Calender 2022 : भारत में मनाए जाने वाले प्रमुख त्योहारों और व्रतों की सूची 2022 त्यौहार कैलेंडर: इस बार 2022 में होली 18 मार्च को है। अप्रैल की 2 तारीख से चैत्र नवरात्रि शुरू होगी और 10 अप्रैल को रामनवमी पूजी जाएगी। तो वही अगस्त में 2 तारीख को नाग पंचमी, 11 अगस्त को रक्षाबंधन, 19 अगस्त … Read more

list of website or portal related to bihar

list of website or portal related to bihar

list of website or portal related to bihar : इस पोस्ट में सभी विभाग, जिला प्रशासन, स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी, संस्थान, हॉस्पिटल, राजनीतिक पार्टियों के official website or portal की जानकारी दी गई है। सीधे लिंक पर क्लिक कर के पोर्टल visit कर सकते हैं।

Administrative divisions and sub-division of Bihar

बिहार के सभी जिलों के DM और SP ऑफिसियल वेबसाइट, मोबाइल नंबर

divisionssub-division District Website / portal
Patna Division – 6 districts PatnaOfficial Website
KaimurOfficial Website
NalandaOfficial Website
BhojpurOfficial Website
RohitasOfficial Website
BuxarOfficial Website
Munger Division – 6 districts Mungerऑफिसियल वेबसाइट
Shaikhpuraऑफिसियल वेबसाइट
Jamuiऑफिसियल वेबसाइट
Begusaraiऑफिसियल वेबसाइट
Khagariaऑफिसियल वेबसाइट
Lakhisaraiऑफिसियल वेबसाइट
Darbhanga Division – 3 districts Darbhangaऑफिसियल वेबसाइट
Madhubaniऑफिसियल वेबसाइट
Samastipurऑफिसियल वेबसाइट
Kosi Division – 3 districts Saharsaऑफिसियल वेबसाइट
Madhepuraऑफिसियल वेबसाइट
supaulऑफिसियल वेबसाइट
Purnia Division – 4 districts Purniaऑफिसियल वेबसाइट
Kishanganjऑफिसियल वेबसाइट
Katiharऑफिसियल वेबसाइट
Arariaऑफिसियल वेबसाइट
Bhagalpur Division – 2 districts Bhagalpurऑफिसियल वेबसाइट
Bankaऑफिसियल वेबसाइट
Tirhut Division – 6 districts Muzaffarpurऑफिसियल वेबसाइट
Sheoharऑफिसियल वेबसाइट
W.Champaranऑफिसियल वेबसाइट
E.Champaranऑफिसियल वेबसाइट
Vaishaliऑफिसियल वेबसाइट
Sitamarhiऑफिसियल वेबसाइट
Magadh Division – 5 districts Gayaऑफिसियल वेबसाइट
Nawadaऑफिसियल वेबसाइट
Aurangabadऑफिसियल वेबसाइट
Jehanabadऑफिसियल वेबसाइट
Arwalऑफिसियल वेबसाइट
Saran division – 3 districts saran ऑफिसियल वेबसाइट
Siwanऑफिसियल वेबसाइट
Gopalgunjऑफिसियल वेबसाइट
total divisions : 09total district :

All Universities list of Bihar State

  • Bihar Universities / Colleges
  • Babasaheb Bhimrao Ambedkar Bihar University, Muzaffarpur, Bihar
  • Bhupendra Narayan Mandal University, Madhepura, Bihar
  • Bihar Yoga Bharati (Deemed University), Ganga Darshan Fort Munger Bihar
  • BRA Bihar University, Muzaffarpur, Bihar
  • Indira Gandhi Institute of Medical Sciences, Sheikhpura Patna, Bihar
  • Jai Prakash Vishwavidyalaya Chapra, Bihar
  • Kameshwar Singh Darbhanga Sanskrit University Kameshwar Nagar Darbhnaga, Bihar
  • Lalit Narayan Mithila University Darbhanga, Bihar
  • Magadh University Bodh Gaya, Bihar
  • Maulana Mazharul Haque Arabic and Persian University, Patna
  • Nalanda Open University Reshmi Complex, 7th Floor Kidwaipuri Patna, Bihar
  • Patna University, Patna, Bihar
  • Rajendra Agricultural University, Pusa, Samastipur, Bihar
  • Tilka Manjhi Bhagalpur University Bhagalpur, Bihar
  • Veer Kunwar Singh University Arrah, Bihar

List of Important Websites of Bihar Government

  • Hon’ble Governor’s Secretariat
  • Chief Minister’s Office
  • Dy. Chief Minister’s Office

Departments of bihar official website link

  • Agriculture
  • Animal Fish Resources
  • Board of Revenue
  • Building Construction
  • Commercial Taxes
  • Disaster Management
  • Energy
  • Environment & Forest
  • Finance
  • Food & Consumer Protection
  • Health & Family Welfare
  • Human Resource Development
  • Industry
  • Information & Public Relations
  • Labour Resources
  • Law
  • Revenue & Land Records
  • Minority Welfare
  • Personnel
  • Panchayati Raj
  • Public Health Engineering
  • Planning
  • Registration, Excise & Prohibition
  • Road Construction
  • Rural Development
  • Rural Works
  • Science & Technology
  • Sugarcane
  • Transport
  • Tourism – Discover Bihar
  • Urban Development
  • Vigilance
  • Water Resources
  • Welfare
  • Youth, art & Culture

Bihar State Police Department – list of website or portal related to bihar


Bihar Police
Arwal Police Office
Motihari Police Office
Purnea Police Office

Most Important Websites list of Bihar 2022


Dr Rajendra Pd Smriti Sangrahalay
E-Counting – ECI, Bihar
E-Gazette, Bihar
Khuda Baksh Oriental Public Library
Koshi Kshetriya Gramin Bank, Purnea
Kosi aayog (Enquiry Commission)
Krishi Vigyan Kendra, Jamui
Krishi Vigyan Kendra, Vaishali
Sikariya Panchayat, Jehanabad
Tirhut Commissionary, Muzaffarpur

Judiciary of Bihar

  • Patna High Court

Organisations of Bihar – list Of Website Or Portal Related To Bihar

  • Accountant General, Bihar
  • Bihar Co-Operative Bank, Patna
  • Bihar Foundation
  • Bihar Industrial area Development (BIADA)
  • Bihar Prashasnik Sudhar Mission
  • Bihar Public Service Commission
  • Bihar Rajya Pul Nirman Nigam
  • Bihar Rajya Beej Nigam Ltd
  • Bihar School Examination Board
  • Bihar State aids Control Society
  • Bihar State Election authority (BSEA)
  • Bihar State Electricity Board
  • BELTRON
  • Bihar State Housing Board
  • Bihar Staff Selection Commission
  • Bihar State Tourism Development Corp.
  • Bihar State Women Development Corp.
  • Bharat Wagon & Engineering Co. Ltd.
  • Central Excise, Bihar
  • Central Excise – e-auction, Patna
  • Central Ground Water Board, Patna
  • Chief Electoral Officer, Bihar
  • Chief Minister’s Janta Darbar
  • Chief Secretary, Public Grievance Cell
  • Controller of Communication accounts
  • District Health Society, Patna
  • Directorate of Employment & Training
  • Directorate of Rice Development
  • Flood Management Information System
  • Food Corporation of India (Bihar)
  • Ganga Flood Control Commission
  • Integrated Child Development Services
  • Patna Municipal Corporation
  • Patna Regional Development authority
  • Railway Recruitment Board, Patna
  • Railway Recruitment Cell, Patna
  • Small Industries Services Institute
  • State Board of Technical Education
  • State Election Commission, Bihar
  • State Health Society, Bihar
  • State Level Bankers Committee, Bihar
  • State Govt. Tenders

Information Commission of Bihar

  • Bihar State Information Commission

All Districts Websites list Of Bihar

  1. Patna
  2. Araria
  3. Madhepura
  4. Arwal
  5. Muzaffarpur
  6. Aurangabad
  7. Munger
  8. Banka
  9. Nalanda
  10. Begusarai
  11. Nawada
  12. Bhagalpur
  13. Bhojpur
  14. Purnea
  15. Darbhanga
  16. Rohtas
  17. East Champaran
  18. Saharsa
  19. Gaya
  20. Saran
  21. Gopalganj
  22. Samastipur
  23. Jamui
  24. Sheohar
  25. Jehanabad
  26. Sheikhpura
  27. Kaimur
  28. Sitamarhi
  29. Khagaria
  30. Siwan
  31. Katihar
  32. Supaul
  33. Kishanganj
  34. Vaishali
  35. Lakhisarai
  36. West Champaran
  37. Madhubani

List Of School/Colleges – Website Or Portal Related To Bihar

  • Bhagalpur College of Engineering
  • Bihar Institute of Public administration
  • B.R.ambedkar Bihar University, Muzaffarpur
  • Chanakya National Law University, Patna
  • Chandragupta Institute of Mgmt, Patna
  • College of arts & Crafts, Patna University
  • DNS Regional Institute of Co-op Mgmt
  • Jai Prakash Vishwavidyalaya, Chapra
  • K.S. Darbhanga Sanskrit Vishwavidyalaya
  • Lalit Narayan Mithila University, Darbhanga
  • L. N. Mishra Institute, Patna
  • Muzaffarpur Institute of Technology
  • Nalanda Open University, Patna
  • National Institute of Technology, Patna
  • Patna University, Patna
  • Rajendra agriculture University, Pusa
  • Sainik School, Nalanda
  • Science College, Patna University
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, araria
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, 24 Pargana
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Banka
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Bhojpur
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Buxar
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Chatra
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Dumka
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, E Champaran
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Giridih
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Godda
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Gopalganj
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Gumla
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Hooghly
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Howrah
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Jamui
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Kaimur
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Katihar
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Khagaria
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Kishanganj
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Lakhisarai
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Madhepura
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Munger
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Nalanda
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Nawada
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Palamau
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Purnea
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Saharsa
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Saharsa
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Sahebganj
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Samastipur
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Sheikhpura
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Sitamarhi
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Siwan
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Supaul
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, Vaishali
  • Jawahar Navodaya Vidyalay, W Champaran
  • Navodaya Vidyalay Samiti, Patna
  • Kendriya Vidyalay, Gopalganj

conclusion

इस पोस्ट में दिए गए सभी महत्वपूर्ण जानकारी को जल्द ही update कर दी जाएगी। अभी एक page पर ज्यादा link होने के वजह से technical दिक्कत आ रही है। अगर आपको कोई भी website या पोर्टल के बारें जानकारी चाहिए तो ये telegram चैनल से जुड़ जाइए। यहाँ सभी महत्वपूर्ण लिंक दी गई है।

उम्मीद करता हूं, आप telegram group से जुड़ कर अपने समस्या का समाधान पाए हों। list Of Website Or Portal Related To Bihar

Read More: बिहार ने देश और दुनिया को क्या-क्या दिया | बिहार की उपलब्धियां

पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू की जीवनी | Biography in hindi

पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू की जीवनी

दीप सिद्धू की जीवनी : दीप सिद्धू एक अभिनेता थे, जिनपर 26 जनवरी 2021 के दिन लाल किला पर हुए दंगे का आरोप था। अब दीप सिद्धू इस दुनिया में नहीं रहे। आइये जानते हैं उनके जीवन के बारें में।

किसान आंदोलन से सुर्खियों में आने वाले पंजाबी एक्टर दीप सिद्धू की सड़क हादसे में मौत हो गई. हादसा उस समय हुआ जब दीप सिद्धू अपनी NRI गर्लफ्रेंड के साथ दिल्ली से पंजाब लौट रहे थे। एक्टर दीप सिद्धू कृषि सुधार कानूनों के विरोध में हुए किसान आंदोलन के दौरान चर्चा में आए थे. बीते साल 26 जनवरी को लाल किले में हुई हिंसा को लेकर भी दीप को आरोपी बनाया गया था. उनकी गिरफ्तारी भी हुई थी.

दीप सिद्धू की जीवनी- Bio / Wiki

नाम Deep Sidhu
पिता का नाम
Great-Grandfather
Sr Surjeet Singh’s
Nehal Singh Sidhu
पेशा Model, Actor, Lawyer, Legal Advisor
जन्म तिथि2 April 1984
जन्म स्थानMuktsar, Punjab, India
शिक्षाDegree in Law
धर्मSikhism
फेसबुक https://www.facebook.com/imdeepsidhu
इंस्टाग्रामhttps://www.instagram.com/imdeepsidhu/
ट्विटरHttps://Twitter.Com/Iamdeepsidhu
मृत्यु / कारण15 February 2022 / Road Accident
deep sidhu Biography in hindi

दीप सिद्धू के जीवन की कहानी

पंजाब के मुक्तसर जिले में अप्रैल 1984 में जन्मे दीप सिद्धू का परिवार कुछ समय बाद ही गांव को छोड़ गया था। दीप सिद्धू ने अपने करियर की शुरुआत माडलिंग से की थी। अभिनेता दीप सिद्धू ने बहुत कम समय में पंजाबी फिल्म जगत में अपनी पहचान बनाई थी। उन्होंने ग्रासिम मिस्टर इंडिया में हिस्सा लिया और ग्रासिम मिस्टर पर्सनैलिटी और ग्रासिम मिस्टर टैलेंटेड बन गए।

सिद्धू ने हेमंत त्रिवेदी, रोहित गांधी और अन्य जैसे डिजाइनरों के लिए मुंबई में रैंप वॉक किया था। वह किंगफिशर माडल हंट के विजेता रहे। इसी बीच दीप सिद्धू ने पुणे से वकालत की डिग्री ली थी। कानून की पढ़ाई के बाद दीप सिद्धू ने एक वकील के रूप में अभ्यास करना शुरू कर दिया।

दीप सिद्धू का पहला प्लेसमेंट सहारा इंडिया परिवार में कानूनी सलाहकार के रूप में था। फिर उन्होंने हैमंड्स नामक ब्रिटिश लॉ फर्म के साथ काम किया। उन्होंने डिज्नी, सोनी पिक्चर्स और अन्य हॉलीवुड स्टूडियो के लिए भी काम किया। बालाजी टेलीफिल्म्स में साढ़े तीन साल तक कानूनी प्रमुख बने। उन्होंने निर्देशक संजय लीला भंसाली और विजया प्रोडक्शन हाउस के लिए भी काम किया था।

अब किसान आंदोलन से सुर्खियों में आने वाले पंजाबी एक्टर दीप सिद्धू की सड़क हादसे में मौत हो गई. हादसा उस समय हुआ जब दीप सिद्धू अपनी NRI गर्लफ्रेंड के साथ दिल्ली से पंजाब लौट रहे थे। एक्टर दीप सिद्धू कृषि सुधार कानूनों के विरोध में हुए किसान आंदोलन के दौरान चर्चा में आए थे. बीते साल 26 जनवरी को लाल किले में हुई हिंसा को लेकर भी दीप को आरोपी बनाया गया था. उनकी गिरफ्तारी भी हुई थी !

source : dainik jagaran Date : 15/02/2022

Read More :

शिवाजी महाराज जयंती की शुभकामनाएं 2022 | Hindi Status

जब #हौसले 👊 बुलन्द हो, 
तो पहाङ ⛰ भी एक #मिट्टी का ढेर लगता है।🙂

Jai Shivaji… Jai Bhavani…
Happy Shivaji Maharaj Jayanti
🔥हर मराठा पागल है…
🚩भगवे का…स्वराज का…
👉 शिवाजी राजे का…

🙏जय भवानी…. 🙏जय शिवाजी…
🚩छत्रपति शिवाजी जयंती की शुभकामनायें💐💐
अपने आत्मबल 💪 को जगाने वाला, 
खुद को पहचानने वाला और
 मानव जाति के कल्याण की सोच रखने वाला 
पूरे विश्व पर राज कर सकता है। 

🔥 Jai Shivaji… 🚩Jai Bhavani…

जब आप अपने लक्ष्य को तन-मन से चाहोगे तो ⚡माँ भवानी⚡ की कृपा से जीत आपकी ही होगी🌟

🙏Jai Bhawani..! Jai Shivaji..!🙏
जब👳‍♂️शिवाजी राजे🚩 की 🗡तलवार  🎠चलती है,
तो 🤱औरतों का घुंघठ और 👴ब्राह्मणों का जनेऊ सलामत रहता है।

🔥शिवाजी महाराज जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं 💐🚩

शूरवीरों की है यह धरती
वीर शिवाजी पालनहार
बुराई जिससे डरकर भागे
ऐसी गूँजी है हुंकार

शिवाजी महाराज जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं 💐💐♥️🔥🚩🚩
#शत्रु को कमजोर नहीं समझना चाहिए 
और ना ही #बलवान समझना चाहिए। 
जो वो आपके साथ कर रहा है, 
उस पर ही ध्यान देना चाहिए। 

🔥शिवाजी महाराज जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं 💐💐🚩🚩

Happy Shivaji Jayanti Whatsapp Wishes Hindi

बिना रुके हर कठिनाई में कदम बढ़ाना
आसान नहीं है, मातृभूमि पर शीश चढ़ाना

शिवाजी महाराज जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं
 "एक सफल मनुष्य अपने कर्तव्य की पराकाष्ठा के लिए समुचित मानव जाति की चुनौती स्वीकार कर लेता है."
- छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती की हार्दिक  शुभकामनाएं"

हम शेर है, शेरों की तरह हँसते है
क्योंकि हमारे दिलों में छत्रपति शिवाजी बसते है

छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती की शुभकामनाएं
"🌹🌹🌹🌹"
 "नारी के सभी अधिकारों में, सबसे महान अधिकार माँ बनने का है
- छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती की आप सभी को शुभकामनाएं "

आप हमेशा अपने सपनों में सफल होने के लिए और हमेशा साहस और ताकत से भरे रहने के लिए शिवजी का आशीर्वाद प्राप्त करें। शिवाजी जयंती पर शुभकामनाएं।”

सरोजिनी नायडू कौन थी | जीवन परिचय | शिक्षा |राजनीतिक सफ़र | अवार्ड

सरोजिनी नायडू कौन थी | जीवन परिचय | शिक्षा |राजनीतिक सफ़र | अवार्ड

इस पोस्ट में सरोजिनी नायडू कौन थी, इसके बारें में विस्तार से जानकारी दी गई है। जिसमें सरोजिनी नायडू के जीवन परिचय उनके जन्म, बचपन, शिक्षा, राजनीतिक सफ़र, अवार्ड और उनके मृत्यु आदि । विषयों पर मुख्य रूप से चर्चा की गई है।

भारत के स्वतंत्रता सेनानी और कवि सरोजिनी नायडू का जन्मदिन देश में एक महत्वपूर्ण उत्सव है। इस दिन को राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में भी मनाया जाता है।

सरोजिनी नायडू कौन थी

भारत कोकिला या नाइटेंगल आफ इंडिया कहलाने वाली सरोजिनी नायडू भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की पहली महिला अध्यक्ष थीं। आजादी के बाद वो पहली महिला राज्यपाल भी घोषित हुईं। सरोजिनी नायडू एक मशहूर कवयित्री, स्वतंत्रता सेनानी और अपने दौर की महान वक्ता भी थीं। इनके जन्म दिवस के रूप में राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है।

Question-सरोजिनी नायडू कौन थी ?

सरोजिनी नायडू का जीवन परिचय

सबसे पहले उनके बारें में कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं, जो सभी को जनाना चाहिए –

1.पूरा नाम सरोजिनी नायडू
2.उपनामनाइटिंगेल ऑफ इंडिया,भारत कोकिला
3.जन्म तिथि 13 फरवरी 1879
4.जन्म स्थान हैदराबाद
5.माता का नाम वरदा सुंदरी
6.पिता का नाम अघोरनाथ चट्टोपध्याय 
7.जीवनसाथीश्री मुत्तयला गोविंद राजुलु नायडु
8.शिक्षाHON. D. LITT.,
FELLOW OF THE ROYAL –
-SOCIETY OF LITT., 1914.
9.राजनीतिक सफ़र राज्यपाल
10.अवार्ड कैसर-ए-हिंद 
11.मृत्यु 2 मार्च 1949 (उम्र 70)
12.मृत्यु स्थानइलाहाबाद, उत्तर प्रदेश
सरोजिनी नायडू का जीवन परिचय
13 feb : सरोजिनी नायडू जी के जयंती पर नमन
स्वतंत्रता आंदोलन में अहम् भूमिका निभाने वाली भारत कोकिला सरोजिनी नायडू जी के जयंती पर नमन।

भारत के स्वतंत्रता सेनानी और कवि सरोजिनी नायडू का जन्म 13 फरवरी, 1879 को हैदराबाद में हुआ था। उनकी माता जी का वरदा सुंदरी ,जोकि उस समय के एक प्रसिद्ध बंगाली कवयित्री थीं। उनके पिता अघोरनाथ चट्टोपाध्याय थे। जो निजाम कालेज,हैदराबाद के संस्थापक और रसायन वैज्ञानिक भी थे।

सरोजिनी नायडू कुल आठ भाई-बहन में सबसे बड़ी थी। उनके एक भाई बीरेंद्रनाथ, जोकि एक क्रांतिकारी थे और तो दूसरे भाई हरिंद्रनाथ एक कवि, नाटककार और अभिनेता थे। सरोजिनी नायडू की बहन, सुनलिनी देवी भी एक नर्तकी और अभिनेत्री थीं।

सरोजिनी नायडू बचपन से मेधावी छात्रा थी। 12 साल की उम्र में, सरोजिनी नायडू ने मद्रास विश्वविद्यालय में मैट्रिक की परीक्षा में टॉप कर ख्याति प्राप्त की। विश्वविद्यालय में उन्हें शब्दों की जादूगरनी कहा जाता था। कम उम्र में ही उन्होंने कई भाषाओ पर अपनी पकड़ बना ली। वो उर्दू, तेलुगु, अंग्रेजी, बंगाली और फारसी में कुशल छात्रा थीं।

पिता चाहते थे कि वो अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूर्ण करने के बाद, गणितज्ञ या वैज्ञानिक बनने के लिए आगे की पढाई करे। लेकिन ऐसा हुआ नहीं, उनकी रूचि कविता रचना में आने लगी। उन्होंने अंग्रेजी में कविता लिखना शुरू कर दिया।

सरोजिनी नायडू ने मात्र 13 वर्ष की आयु में ही 1300 पदों की ‘झील की रानी‘ नामक लंबी कविता और लगभग 2000 पंक्तियों का एक विस्तृत नाटक लिखकर अंग्रेजी भाषा पर अपनी पकड़ का उदाहरण दिया था। उनके कविता से हैदराबाद के निजाम बहुत प्रभावित हुए और उन्हें उन्हें विदेश में पढ़ने के लिए स्कॉलरशिप दी। वह पहले किंग्स कॉलेज लंदन और फिर गिर्टन कॉलेज, कैम्ब्रिज में पढ़ने के लिए इंग्लैंड चली गईं।

सरोजिनी नायडू को शब्दों की जादूगरनी कहा जाता था. वह बहुभाषाविद थीं.
वह क्षेत्रानुसार अपना भाषण अंग्रेज़ी, हिन्दी, बंगला या गुजराती भाषा में देती थीं !
#sarojininaidu

Tweet

सरोजिनी नायडू का वैवाहिक जीवन

डॉ. गोविंदराजुलु नायडू एक दक्षिण भारतीय और एक गैर-ब्राह्मण, फौजी डाक्टर थे।, जिन्होंने तीन साल पहले सरोजिनी के सामने विवाह का प्रस्ताव रखा था। लेकिन सरोजिनी के पिता इस अंर्तजातीय विवाह के विरुद्ध थे।

किन्तु, जिस समय सरोजिनी नायडू इंग्लैंड से लौटी उस समय वह डॉ. गोविन्दराजुलु नायडू के साथ विवाह करने के लिए उत्सुक थीं। इसीलिए बाद में यह सम्बन्ध पिता द्वारा तय कर दिया गया।

सरोजिनी नायडू जी का विवाह 19 वर्ष की आयु में डॉ. मुथ्याला गोविंदराजुलु नायडू से हुआ। उस समय अंर्तजातीय विवाह की सामाजिक अनुमति नहीं होती थी। जिस कारण उनका विवाह 1898 में मद्रास में ब्रह्म विवाह अधिनियम (1872) के तहत हुआ।

सरोजिनी नायडू का वैवाहिक जीवन खुशहाल था । उनके चार बच्चे जयसूर्या, पद्मज, रणधीर और लीलामणि थे ! उन्होंने स्नेह और ममता के साथ अपने चार बच्चों की परवरिश की !

सरोजिनी नायडू का स्वतंत्रता आंदोलन में योगदान

सरोजिनी नायडू के राजनीती में सक्रिय होने में गोखले जी का 1906 कोलकत्ता अधिवेशन के भाषण ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। जिसमें उन्होंने भारतीय समाज में फैली कुरूतियों के लिए भारतीय महिला को जागृत किया था। नायडू गोपाल कृष्ण गोखले को अपना राजनीतिज्ञ पिता मानती थी।

हैदराबाद में उनके द्वारा किये गये बाढ़-राहत कार्यो के लिए उन्हें 1908 में स्वर्ण कैसर-ए-हिन्द के पदक से सम्मानित किया गया। जोकि जलियांवाला बाग़ नरसंहार के बाद लौटा दी।

भारत के सभी स्वतंत्रता आंदोलनों में अपना सहयोग दिया। 1903 से 1917 के बीच वो टैगोर, नेहरू, गाँधी और अन्य हस्तियों से मिली। भारत छोडो आंदोलन में उन्हें सजा हुई , भारत में उनकी ब्रिटिश-विरोधी गतिविधियों के चलते उन्‍हें कई बार जेल जाना पड़ा। 1930, 1932 और 1942-43 में उन्‍हें जेल की सजा दी गईं। उनके विनोदी स्वस्भाव के कारण गाँधी के लघु दरबार में उन्हें विदूषक भी कहा जाता था।

युवाओं में राष्ट्रीय भावनाओं के जागरण के लिए 1915 से 1918 तक एनी बेसेंट और अय्यर के भारत भ्रमण की। 1919 के सविनय अवज्ञा आंदोलन में गाँधी जी के विस्वसनीय सहयोगी थी। होमरूल के मुद्दे को लेकर 1919 में वो इंग्लैंड भी गई। 1922 में उन्होंने खादी पहनने का व्रत लिया। 1922-26 में भारतीयों के समर्थन में आंदोलनरत रही और 1928 में गांधीजी के प्रतिनिधि के रूप में अमेरिका गई।

वैसे जब देश में आजादी के साथ भड़की हिंसा को शांत कराने का प्रयत्न महात्मा गांधी कर रहे थे, उस वक्त सरोजिनी नायडू ने उन्हें ‘शांति का दूत’ कहा था और हिंसा रुकवाने की अपील की थी ! सरोजिनी नायडू 1925 में कांग्रेस के कानपुर अधिवेशन में कांग्रेस की दूसरी महिला अध्यक्ष बनीं ! वे भारत की पहली महिला गवर्नर भी थीं ! आजादी के बाद उन्हें संयुक्त प्रांत का राज्यपाल बनाया गया था !

सरोजिनी नायडू को क्यों कहते हैं ‘ द नाइटिंगेल ऑफ इंडिया

सरोजिनी नायडू को क्यों कहते हैं ' द नाइटिंगेल ऑफ इंडिया '
image : wikipedia

गांधीजी ने उनके भाषणों से प्रभावित होकर उन्हें ‘भारत कोकिला’ की उपाधि दी थी ! लेकिन वो अपने पत्रों में उन्हें कभी-कभी ‘डियर बुलबुल’,’डियर मीराबाई’ तो यहां तक कि कभी मजाक में ‘अम्माजान’ और ‘मदर’ भी लिखते थे ! मजाक के इसी अंदाज में सरोजिनी भी उन्हें कभी ‘जुलाहा’, ‘लिटिल मैन’ तो कभी ‘मिकी माउस’ संबोधित करती थीं !

सरोजिनी नायडू के बेहतरीन कोट्स ( सुविचार )

हम अपनी बीमारी से भारत को साफ करने से पहले पुरुषों की एक नई नस्ल चाहते हैं।

– सरोजिनी नायडू

एक देश की महानता,बलिदान और प्रेम उस देश के आदर्शों पर निहित करता है।

– सरोजिनी नायडू

हम गहरी सच्चाई का मकसद चाहते हैं, भाषण में अधिक से अधिक साहस और कार्यवाही में ईमानदारी।

– सरोजिनी नायडू

“श्रम करते हैं हम कि समुद्र हो तुम्हारी जागृति का क्षण, हो चुका जागरण अब देखो, निकला दिन कितना उज्ज्वल”

– सरोजिनी नायडू

Read more :

बिहार ने देश और दुनिया को क्या-क्या दिया | बिहार की उपलब्धियां

बिहार ने देश और दुनिया को क्या-क्या दिया

आप यह जानकर हैरान रह जाएंगे, बिहार ने देश और दुनिया को क्या-क्या दिया। यह सब इतिहास के पन्नों पर दर्ज है और आप गर्व के साथ कह सकते हैं, हमारे देश का एक पिछड़ा राज्य जिसने दुनियाभर में अपने कारनामें से लोगों को चौंका दिए।

जब भी बिहार की बातें आज देश के किसी राज्यों में होती है। तो बिहार को एक अलग पहचान दिया जाता है। लोग बिहार के लोगों को अनाप- सनाप बोल कर चिढ़ाते हैं। जिसके चलते बिहारी लोग दूसरे राज्यों में रहकर भी लोगों से कटे-कटे रहना पसंद करते हैं। बिहार इस देश के सबसे पिछड़े राज्यों में शीर्ष पर है। इसका वर्तमान जितना स्याह है उतना ही उज्जवल था इसका अतीत, राजनीति और सामाजिक समस्याओं के कारण अपनी अपनी हालत पर तरस खा रहे बिहार को सबसे अधिक राहत अपनी थाती को देखकर ही होती है।

आइए इस पोस्ट में मैं आपको कुछ बिहार से परिचय कराती हूँ। बिहार की उपलब्धियां जानकर आपको भी बिहार पर गर्व होगा।

बिहार ने देश और दुनिया को क्या-क्या दिया

सबसे पहले मैं बिहार ने देश और दुनिया को क्या-क्या दिया इसी बारें बताती हूँ ।

  • 1. दुनियां का सबसे पहला गणतंत्र बिहार बना : दुनिया में सबसे पहला गणतंत्र ( Republic ) का तमगा बिहार के वैशाली के पास है। भगवान महावीर की जन्म स्थली एवं भगवान बुद्ध की कर्म भूमि वैशाली एक पवित्र स्थल है। वैशाली जिले में स्थित एक गांव है। यहां की मुख्य भाषा ‘वज्जिका’ है। पुरातत्‍व विभाग के प्रमाणों के आधार पर माना जाता है कि वैशाली में ही दुनिया का सबसे पहला गणतंत्र कायम किया गया था।
  • 2.जैन धर्म और बौद्ध धर्म का जन्म बिहार में ही हुआ : दुनिया के दो धर्म बिहार से ही निकले। बौद्ध धर्म और जैन धर्म भारत के दो प्राचीन धर्म हैं, आज दुनिया में यह धर्म फैली है। जिनकी जन्मस्थली उस वक़्त का मगध ( वर्तमान समय का बिहार ) है तथा दोनों ही धर्म आज भी फल-फूल रहे हैं। जैन धर्म के प्रवर्तक महावीर स्वामी तथा बौद्ध धर्म के प्रवर्तक गौतम बुद्ध दोनों समकालिक माने जाते हैं।
  • 3.दुनिया की सबसे पुरानी यूनिवर्सिटी बिहार में ही स्थापित हुई थी : दुनिया की सबसे पुरानी यूनिवर्सिटी नालंदा यूनिवर्सिटी बिहार में ही स्थापित हुई थी ! इस विश्वविद्यालय में 12वीं शताब्दी में करीब तीन हजार विद्यार्थी अध्ययन करते थे। यह विवि व्याकरण, तर्कशास्त्र, मानव शरीर रचना विज्ञान, शब्द ज्ञान, चित्रकला सहित अनेक विधाओं का अंतरराष्ट्रीय केंद्र था। इतिहासकारों के मुताबिक नालंदा यूनिवर्सिटी के सबसे प्रतिभाशाली भिक्षु दीपांकर को माना जाता है। जिन्होंने करीब दो सौ पुस्तकों की रचना की थी। एक लुटेरे बख्तियार खिलजी ने नालंदा विश्वविद्यालय को जला कर इसके अस्तित्व को पूरी तरह नष्ट कर दिया था।
  • 4.आचार्य चाणक्य बिहार के ही रहने वाले थे: दुनिया को राजनीत‍ि व कूटनीति का पाठ पढ़ाने वाले चाणक्य बिहार के ही रहने वाले थे। आचार्य चाणक्य ने महाराजा धनानंद से अखण्ड भारत की बात की और कहा कि वह पोरव राष्ट्र से यमन शासक सेल्युकस को भगा दे किन्तु धनानंद ने नकार दिया। क्योंकि पोरस राष्ट्र के राजा की हत्या धनानंद ने यमन शासक सेल्युकस से करवाई थी। उन्होंने नंदवंश का नाश करके चन्द्रगुप्त मौर्य को सिंहासन पर बिठाया और अखंड भारत का निर्माण किये।
  • 5.रामायण लिखने वाले वाल्मी‍कि‍ भी बिहार से थे : महर्षि वाल्मीकि जी को प्राचीन वैदिक काल के महान ऋषियों कि श्रेणी में प्रमुख स्थान प्राप्त हैं। वह संस्कृत भाषा के आदि कवि तथा आदि काव्य ‘रामायण’ के रचयिता के रूप में प्रसिद्ध हैं। 
  • 6. दुनिया को सर्जरी का ज्ञान भी बिहार से ही मिला: सर्जरी में सबसे विशेष विधा है-प्लास्टिक सर्जरी, उसके जन्मदाता सुश्रुत बिहार में पैदा हुए। सारी दुनिया के सर्जन उन्हें अपना पिता मानते हैं. ये हमारे लिए आत्मगौरव का विषय है और यह आत्मगौरव हमें राष्ट्र प्रेम की तरफ ले जाता है। प्राचीन भारत के महान चिकित्साशास्त्री एवं शल्यचिकित्सक थे। वे आयुर्वेद के महान ग्रन्थ सुश्रुतसंहिता के प्रणेता हैं। इनको शल्य चिकित्सा का जनक कहा जाता है। आज से लगभग 2500 साल पहले प्लास्टिक सर्जरी की थी !
  • 7. ‘कामसूत्र’ के रचयिता वात्स्यायन भी बिहार के ही रहने वाले थे :दुनिया में काम के महान ग्रंथ के तौर पर स्थापित ‘कामसूत्र’ के रचयिता वात्स्यायन भी बिहार के ही रहने वाले थे। कामसूत्र जिसकी रचना महर्षि वात्सायन ने की थी। हां, वहीं कामसूत्र जो दुनिया की सबसे ज्यादा बिकने वाली किताब है। वात्स्यायन ऋषि ने इसे तीसरी शताब्दी के मध्य में लिखा था, इतिहासकारों के मुताबिक वात्स्यायन को लगा कि कामुकता के विषय पर खुलकर चर्चा होनी चाहिए। उनका मानना था कि इसकी अनदेखी नहीं की जा सकती है। इस उद्देश्य से ही उन्होंने इस किताब की रचना की। उन्होंने अपने किताब के माध्यम से इस बात को सुनिश्चित करने की कोशिश की कि लोग इस संबंध में बेहतर जानकारी हासिल कर सकें।
  • 8.आर्यभट्ट भी बिहार के ही रहने वाले थे : दुनिया को गणित का ज्ञान देने वाले आर्यभट्ट भी बिहार के ही रहने वाले थे। प्राचीन भारत के एक महान ज्योतिषविद् और गणितज्ञ थे। बिहार में वर्तमान पटना का प्राचीन नाम कुसुमपुर था। जहाँ उनका जन्म हुआ था। लेकिन यह विषय पर लोगो का अलग-अलग मत है। कुछ लोगो द्वारा बताया गया है की अब के कुसुमपुर जहाँ उनका जन्म हुआ वह महाराष्ट्र में है। विकिपीडिया के मुताबिक , इन्होंने आर्यभटीय ग्रंथ की रचना की जिसमें ज्योतिषशास्त्र के अनेक सिद्धांतों का प्रतिपादन है। इसी ग्रंथ में इन्होंने अपना जन्मस्थान कुसुमपुर और जन्मकाल शक संवत् 398 लिखा है।
  • 9. भारत के महान शासक चक्रवर्ती सम्राट अशोक बिहार के थे : बिहार के सम्राट अशोक को भारतीय इतिहास के महानतम शासक माने जाते हैं। अशोक चक्र ही भारतीय झंडे के केंद्र में है। चक्रवर्ती सम्राट अशोक विश्व के सभी महान एवं शक्तिशाली सम्राटों एवं राजाओं की पंक्तियों में हमेशा शीर्ष स्थान पर ही रहे हैं। सम्राट अशोक ही भारत के सबसे शक्तिशाली एवं महान सम्राट है। सम्राट अशोक को ‘चक्रवर्ती सम्राट अशोक’ कहा जाता है, जिसका अर्थ है – ‘सम्राटों का सम्राट’, और यह स्थान भारत में केवल सम्राट अशोक को मिला है।
  • 10. सिख धर्म के आखिरी गुरु गुरुगोविंद सिंह का जन्म बिहार में ही हुआ: गुरु गोबिंद सिंह जीपटना में पैदा हुए जो दसवें सिख गुरु बने। पटना साहेब सिखों का एक पवित्र धर्मस्थल माना जाता है। वह औपचारिक रूप से नौ साल की उम्र में सिखों के नेता और रक्षक बन गए, जब नौवें सिख गुरु और उनके पिता गुरु तेग बहादुर औरंगजेब द्वारा इस्लाम में परिवर्तित होने से इनकार करने के लिए मार दिए गए थे। गुरु गोबिंद जी ने अपनी शिक्षाओं और दर्शन के माध्यम से सिख समुदाय का नेतृत्व किया और जल्द ही ऐतिहासिक महत्व प्राप्त कर लिया. वह खालसा को संस्थागत बनाने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. गुरु गोबिंद सिंह जी ने अपनी मृत्यु से पहले 1708 में गुरु ग्रंथ साहिब को सिख धर्म का पवित्र ग्रंथ घोषित किया था।

बिहार की उपलब्धियां

बिहार की उपलब्धियां विश्व स्तर पर प्राचीन समय से ही रही है। जिसको इतिहास के पन्नो से कभी मिटाया नहीं जा सकता। प्राचीन समय में बिहार समृद्ध था। यह राज्य पवित्र गंगा घाटी में स्थित भारत का उत्तरोत्तर क्षेत्र था जिसका प्राचीन इतिहास अत्यन्त गौरवमयी और वैभवशाली था। यहाँ ज्ञान, धर्म, अध्यात्म व सभ्यता-संस्कृति की ऐसी किरण प्रस्फुटित हुई जिससे न केवल भारत बल्कि समस्त संसार आलोकित हुआ।

काल खण्ड के अनुसार बिहार के इतिहास को दो भागों में बाँटा जा सकता है- (।) पूर्व ऐतिहासिक काल, (॥) ऐतिहासिक काल।
विकिपीडिया के अनुसार , यह ऐतिहासिक काल अत्यन्त प्राचीनतम है जो ऐतिहासिक युग से करीब एक लाख वर्ष पूर्व का काल है। यह काल उत्तर वैदिक काल माना जाता है। बिहार में आर्यीकरण इसी काल से प्रारम्भ हुआ।

निष्कर्ष

अब यह 10 बिहार की उपलब्धियां देखकर खुद अंदाजा लगा सकते हैं। बिहार ने देश और दुनिया को क्या-क्या दिया। आज बिहार की ऐसी दुर्दशा क्यों है। इसके बारें में कमेंट में बताएं। मुझे तो बिहारी होने पर गर्व है। जिसने देश को प्राचीन समय से ही गौरवांवित किया है। देश के किसी हिस्सा से आप हैं। तो दोस्तों बिहार के नाम एक कमेंट तो बनता है।

ये भी पढ़े :

2022 में उत्तर प्रदेश में भारत का सबसे

2022 में उत्तर प्रदेश में भारत का.!! 🚩🚩 सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे ~ पूर्वांचल सबसे तेज निर्मित मेट्रो ~ कानपुर सबसे बड़ा मोबाईल प्लांट ~ नोएडा सबसे तेज ट्रेन ~ वंदे भारत सबसे बड़ा कैंसर अस्पताल ~ लखनऊ सबसे चौड़ा एक्सप्रेस-वे ~ मेरठ सबसे बड़ा गुर्दा केंद्र ~ लखनऊ सबसे बड़ा हवाई अड्डा ~ नोएडा (निर्माणाधीन) … Read more

DRCC Samastipur : बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड लोन की पूरी जानकारी

DRCC Samastipur से loan कैसे लें

नमस्कार दोस्तों, इस पोस्ट में DRCC Samastipur से बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड लोन की पूरी जानकारी दी गई है। साथ ही विभिन्न कोर्स के बारें में जानने-समझने के लिए इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें। जैसा की आप जानते होंगे, बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना द्वारा राज्य के विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा के लिए लोन … Read more

पद्मश्री छुटनी देवी जी का जीवन परिचय

पद्मश्री छुटनी देवी जी का जीवन परिचय

पद्मश्री छुटनी देवी जी का जीवन परिचय : एक ऐसी ‘वीरांगना’ जिन्होंने पूरे झारखंड में डायन-भूतनी कहकर प्रताड़ित की गई महिलाओं को नरक जैसी जिंदगी से बाहर निकाला है। डायन बताकर जिनपर हुए बेहिसाब जुल्म, उनकी मुहिम से 500 महिलाओं को मिली नई जिंदगी। झारखंड के सरायकेला-खरसांवा जिले के बीरबांस गांव की रहनेवाली है छुटनी देवी। जो देश के राष्ट्रपति के हाथों 9 नवंबर 2021 को पद्मश्री से सम्मानित हुयी।

पद्मश्री छुटनी देवी जी का जीवन परिचय

पद्मश्री छुटनी देवी जी को ही इन्टरनेट पर लोग छुटनी महतो के नाम से जान रहे हैं। ऐसा गलती से हुआ। छुटनी देवी झारखंड के जिला सरायकेला-खरसांवा के गम्हरिया में बीरबांस इलाके की रहने वाली महिला है। 12 वर्ष की उम्र में उनकी शादी गम्हरिया थाना के महातांड डीह गांव के धनंजय महतो से हुई। इनके 3 बच्चे हैं।

छुटनी देवी बताती हैं कि 3 सितंबर 1995 को घटी घटना के बाद आज इस जगह तक पहुंचने के लिए उन्होंने बेहिसाब दुःख झेली हैं।जब भी वो पुराने दिनों को याद करती हैं तो रोंगटे खड़े हो जाते हैं। वो बताती हैं कि, “3 सितंबर की घटना के बाद मेरा ससुराल में रहना मुश्किल हो गया। यहां तक कि पति ने भी साथ छोड़ दिया, मेरे तीन बच्चे हैं। तीनों को साथ लेकर आधी रात को गांव से निकल गई। एक रिश्तेदार के यहां रुकी, पर यहां भी उन्हें डायन करार देने वाले लोगों से खतरा था। वो उफनती हुई खरकई नदी पार कर किसी तरह आदित्यपुर में अपने भाई के घर पहुंचीं, लेकिन बदकिस्मती ने यहां भी पीछा नहीं छोड़ा। कुछ रोज बाद मां की मौत हो गई और तो मुझे यह घर भी छोड़ना पड़ा। फिर, गांव के ही बाहर एक पेड़ के नीचे झोपड़ी बनाकर सिर छिपाने का इंतजाम किया। 8-10 महीने तक मेहनत-मजदूरी करके किसी तरह अपना और बच्चों का पेट भरती रही.”

1995 में क्या हुआ था, छुटनी देवी के साथ

छुटनी देवी (Chutni Devi) को आज भी 3 सितंबर 1995 की तारीख अच्छी तरह याद है। इस दिन गांव में बैठी पंचायत ने उन पर जो जुल्म किए थे, उसकी टीस आज भी जब उनके सीने में उठती है तो जख्म एक बार फिर हरे हो जाते हैं। उनकी आंखों से आंसू गिरने लगते हैं। पड़ोसी की बेटी बीमार पड़ी थी और इसका जुर्म उनके माथे पर मढ़ा गया था, ये कहते हुए कि तुम डायन (Dayan) हो। जादू-टोना करके बच्ची की जान लेना चाहती हो।

साल 2016 में छुटनी देवी ने बीबीसी को अपनी कहानी बताई थी। मेरे पड़ोसी भोजहरी की बेटी बीमार हुई।लोगों ने शक जताया कि मैंने उस पर टोना कर दिया है। गाँव में पंचायत हुई। इसमें मुझे डायन क़रार दिया गया।लोगों ने घर में घुसकर मेरे साथ बलात्कार की कोशिश की। वे लोग दरवाज़ा तोड़कर अंदर आए थे। हम किसी तरह बचे। सुंदर होना मेरे लिए अभिशाप बन गया।

पंचायत ने उनपर 500 रुपये का जुमार्ना भी लगाया था। दबंगों के खौफ से छुटनी देवी ने जुमार्ना भर दिया लेकिन बीमार बच्ची अगले रोज भी ठीक नहीं हुई तो 4 सितंबर को एक साथ 20-30 लोगों ने उनके घर पर धावा बोल दिया। उन्हें खींचकर बाहर निकाला, उनके तन से कपड़े खींच लिए गए, बेरहमी से पीटा गया।

इतना ही नहीं, बीमार बच्ची को ठीक करने के लिए ओझा गुणी बुलाया गया तो उन्होंने मानव मूत्र पिलाने की बात कही, जिससे डायन का प्रकोप उतर जाएगा। ऐसे नहीं करने पर उनपर मल-मूत्र तक फेंका गया। उसके बाद से उन्हें गाँव के बाहर कर दिया।

छुटनी देवी से पद्म श्री छुटनी महतो बनने की कहानी

छुटनी देवी के इलाके की एक बड़ी शख्सियत बनने की एक शानदार दास्तां है। साल था 1996-97 का, छुटनी देवी की मुलाकात फ्रीलीगलएड कमेटी (फ्लैक) के कुछ सदस्यों से हुई। फिर, उनकी कहानी जब मीडिया में आई तो बात हवा के तरह फैल गई। नेशनल जियोग्राफिक चैनल तक बात पहुंची तो उनके जीवन और संघर्ष पर एकडाक्यूमेंट्री बनी।

2000 में गैर सरकारी संगठन एसोसिएशन फॉरसोशल एंड ह्यूमन अवेयरनेस (आशा) ने उन्हें समाज परिवर्तन और अंधविश्वास के खिलाफ अभियान से जोड़ा। उन्होंने यहां रहकर समझा कि कानून की मदद से कैसे अंधविश्वासों से लड़ा जा सकता है।

सामाजिक जागरूकता के तौर-तरीके समझे। फिर, हर उस गांव में जाती जहां किसी को डायन-ओझा कहकर प्रताड़ित करने की शिकायत मिलती थी। गांव वालों को समझाने की कोशिश करती। जुल्म झेल रहीं डेढ़ सौ से ज्यादा महिलाओं को अपने साथ जोड़ा। धमकियां भी मिलीं, पर उन्होंने अब किसी की परवाह नहीं की। एनजीओ के जरिए रेस्क्यू की गई महिलाओं को स्वरोजगार के साधनों से जोड़ा गया।

सिलाई-बुनाई, हस्तकला, शिल्पकला और दूसरे काम की ट्रेनिंग दी गई। बीरबांस में ही आशा का पुनर्वास सह परामर्श केंद्र बनाया गया, जो पीड़ित महिलाओं के लिए आश्रय गृह है। छुटनी देवी की मदद से अब तक 500 से भी अधिक महिलाओं की जिंदगी में नई रोशनी आ चुकी है ..और यह मुहिम अभी भी जारी है।

डायन के नाम पर हत्या के आकड़े

झारखंड में पिछले 20 साल में क़रीब 16 सौ महिलाएँ डायन के नाम पर मारी जा चुकी हैं। एसोसिएशन फार सोशल एंड ह्यूमन अवेयरनेस (आशा) के अजय कुमार जायसवाल के अनुसार झारखंड में 2016 में 18 महिलाओं की हत्या डायन होने के आरोप में कर दी गई थी।

पद्मश्री छुटनी देवी जी का जीवन परिचय (Biography of Padmashree Chutni Devi )
BBC

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के 2014 में आँकड़े के मुताबिक़ झारखंड में 2012 से 2014 के बीच 127 महिलाओं की हत्या डायन बताकर कर दी गई।

राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में तत्कालीन गृह राज्यमंत्री एचपी चौधरी ने ये आँकड़े बताए थे। उन्होंने कहा था कि झारखंड में 2014 में ही 47 महिलाओं की हत्या डायन बताकर कर दी गई। यह उस साल देशभर में डायन के नाम पर हुई हत्याओं का 30 फ़ीसदी था।

राष्ट्रपति ने किया पद्म श्री से सम्मानित

झारखंड को डायन नामक कलंक से मुक्ति दिलाने का बीड़ा जिन चंद संस्थाओं और लोगों ने उठाया है, उनमें छुटनी देवी का नाम सबसे ऊपर है। यह वही छुटनी हैं, जिन्हें समाज के लोगों ने डायन बता प्रताड़ित किया था। मुश्किल घड़ी में न तो गांव का साथ मिला और न ही समाज का। और तो और सात जन्मों तक साथ निभाने की कसमें खाने वाले पति ने भी उन्हें छोड़ दिया। एक दौर ऐसा भी आया जब खुद की और अपने तीन बच्चों की जान बचाने के लिए छुटनी देवी को आधी रात सरायकेला में बहने वाली खरकई (पहाड़ी नदी) पार करनी पड़ी। वहीं आठ महीने तक पेड़ के नीचे बनी टाट की झोपड़ी में दिन काटने पड़े। तब न तो उन्हें पुलिस का सहयोग मिला और न ही जन प्रतिनिधियों का।

समाज से मिली इस पीड़ा ने आज छुटनी देवी को इतना ताकतवर बना दिया कि वह हजारों महिलाओं की आवाज बन गईं। झारखंड के सरायकेला विधानसभा क्षेत्र स्थित बीरबांस गांव में रहने वाली छुटनी देवी का नाम आज छत्तीसगढ़, बिहार, बंगाल और ओडिशा के सीमावर्ती इलाकों में डायन कहकर प्रताड़ित की जानेवाली हर महिला की जुबान पर है। ऐसी महिलाओं का संबल बनीं छुटनी देवी गांव, समाज, थाना से लेकर कोर्ट तक डायन बताई गई महिलाओं की न्याय की लड़ाई लड़ रही हैं। वे सबको न्याय दिलाना चाहती हैं।

Read more:Success Story

Conclusion : Biography of Padmashree Chutni Devi

एक समय हुआ करता था जब पद्म पुरस्कार पाने वालों के नाम मैं कभी देखना और सुनना नही चाहता था पढ़ना तो दूर की बात……हाँ एक प्रतियोगी छात्र होने के नाते रटना जरूर पड़ता था ।
लेकिन इस नए भारत की इस नई लिस्ट को पढ़कर मन प्रसन्न और उत्साहित हो उठता है।

व्यक्तिगत रूप से मेरा तो यही मानना है की देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान समाज या किसी सेवा विशेष के टॉप पर पहुंचे हुए लोगों को न देकर डाउनटू अर्थ अर्थात जमीन से जुड़े हुए लोगों को दिए जाएं।

एक चीज याद रखना दोस्तों जिस दिन इस देश में महंगे आभूषणों परिधानों चमचमाती गाड़ियों और आलीशान भवनों में रहने वालों अर्थात विलासितापूर्ण जीवन जीने वालों से छीन कर देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान धोती कुर्ता, साधारण सी साड़ी और टूटी फूटी चप्पल पहनने वालो के हाथों में देकर उनका मां सम्मान और गौरव बढ़ाया जाए तो इतना समझ जाना कि देश सुरक्षित हाथों में है।

दोस्तों ऐसे वीरांगना, पद्म श्री छुटनी देवी जी के लिए एक आपका Comment तो जरूर बनता है। Comment box में अपना प्यार दें।