Paytm IPO : 8,300 करोड़ रुपये के ताजा शेयर,जानिए

Paytm IPO : यह देश का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ है लेकिन इसे लेकर एनालिस्ट्स की राय बंटी हुई है। देश की सबसे बड़ी डिजिटल पेमेंट्स कंपनी पेटीएम लॉन्ग टर्म में यह स्टॉक निवेशकों के लिए फायदे का सौदा होगा या नहीं, कुछ एनालिस्ट्स ने निवेशकों को लिस्टिंग गेन के लिए इसे खरीदने की सलाह दी है। पेटीएम (Paytm) की प्रमोटर वन 97 कम्युनिकेशंस (One 97 Communications) का 18,300 करोड़ रुपये का Paytm IPO सब्सक्रिप्शन के लिए खुल गया है। जानिए क्या कहते हैं एनालिस्ट्स..

इस आईपीओ में 8,300 करोड़ रुपये के ताजा शेयर हैं जबकि प्रमोटर्स और मौजूदा शेयरहोल्डर्स 10,000 करोड़ रुपये के शेयरों की बिक्री करेंगे। कंपनी ने आईपीओ के लिए प्राइस बैंड 2080-2150 रुपये रखा गया है। कंपनी ने आईपीओ से पहले पिछले हफ्ते 122 एंकर निवेशकों से 8235 करोड़ रुपये जुटाए थे। रिटेल इनवेस्टर्स को इसमें पैसा लगाने चाहिए या नहीं, जानिए क्या कहते हैं एनालिस्ट्स..

  • येशा शाह, रिसर्च हेड, सैम्को इंडस्ट्रीज : कंपनी 20 अरब डॉलर वैल्यूएशन की उम्मीद कर रही है जो वित्त वर्ष 2021 में कंपनी के सेल्स से 49 गुना है। कंपनी के मौजूदा ऑपरेटिंग मैट्रिक्स को देखते हुए इसका वैल्यूएशन महंगा लग रहा है। लॉन्ग टर्म ग्रोथ की संभावना, मौजूदा फाइनेंशियल पैरामीटर और रिच वैल्यूएशंस को देखते हुए केवल जोखिम लेने वाले निवेशकों को ही इसमें कूदना चाहिए। इसमें मीडियम से लॉन्ग टर्म में फायदा होना चाहिए।
  • ज्योति रॉय, इक्विटी स्ट्रैटजिस्ट, एंजल वन : इसका वैल्यूएशन महंगा लग सकता है लेकिन पेटीएम आज मोबाइल से डिजिटल पेमेंट्स का पर्याय बन गई है। यह देश में मोबाइल पेमेंट स्पेस में मार्केट लीडर है। अगले 5 साल में मोबाइल पेमेंट रेवेन्यू में 5 गुना तेजी आने की उम्मीद है और इसका सबसे ज्यादा फायदा पेटीएम को ही होगा। इसलिए इसका वैल्यूएशन वाजिब है।
  • सौरभ जोशी, एनालिस्ट, मारवाड़ी शेयर्स एंड फाइनेंस : हमने इस आईपीओ को Avoid रेटिंग दी है। इसकी वजह यह है कि इसका वैल्यूएशन नुकसान में चल रही किसी कंपनी के लिए बहुत ज्यादा है। कंपनी अपनी सेल्स से 44.36 गुना ज्यादा मार्केट कैप के साथ लिस्ट होगी। देश में ऐसी कोई लिस्टेड कंपनी नहीं है जिसके बिजनस की पेटीएम के बिजनस से तुलना की जा सके।
  • रिचा अग्रवाल, सीनियर रिसर्च एनालिस्ट, इक्विटीमास्टर : वित्त वर्ष 2021 में जब कोरोना महामारी के कारण डिजिटल वॉलेट्स और मोबाइल पेमेंट्स में तेजी आई तो पेटीएम के रेवेन्यू में कमी आई। मार्केटिंग और प्रमोशनल खर्चों में 60 फीसदी कटौती के बावजूद कंपनी का घाटा जारी रहा और मुनाफे की ओर बढ़ने का कंपनी का रास्ता साफ नहीं है। कंपनी इस आईपीओ में ओएफएस की राशि फ्रेश इश्यू से ज्यादा है। लॉन्ग टर्म संभावनाओं को देखते हुए यह एक सफल आईपीओ हो सकता है। लेकिन इसमें निवेश फायदे का सौदा नहीं लग रहा है।

Paytm IPO से जुड़ी खास बातें

  • पेटीएम के IPO में 8,300 करोड़ रुपये के फ्रेश इश्‍यु (fresh issue) और मौजूदा शेयरहोल्‍डर्स द्वारा 10,000 करोड़ के बिक्री के लिए प्रस्‍ताव (OFS) शामिल हैं. 
  • पेटीएम के एमडी और सीईओ विजय शंकर के अलावा, जापान केसॉफ्ट बैंक, चीन का Ant ग्रुप और अली बाबा के अलावा एलिवेशन कैपिटल (Elevation Capital) जैसे निवेशकआईपीओ में अपनी हिस्‍सेदारी कम करने वाले शीर्ष निवेशकों में हैं. 
  • ओएफएस में पेटीएम के सीईओ विजय शेखर शर्मा द्वारा 402.65 करोड़ रुपये तक, एंटफिन (नीदरलैंड्स) होल्डिंग्स द्वारा 4,704.43 करोड़ रुपये तक, अलीबाबा डॉट कॉम सिंगापुर ई-कॉमर्स द्वारा 784.82 करोड़ रुपये तक और एलिवेशन कैपिटल वी एफआईआई होल्डिंग्स द्वारा 75.02 करोड़ रुपये तक के शेयरों की बिक्री शामिल है
  • पेटीएम, IPO से मिलने वाले रिटर्न का उपयोग उपभोक्‍ताओं और व्‍यापारियों के अधिग्रहण और उन्‍हें टेक्‍नोलॉजी व वित्‍तीय सेवाओं तक अधिक पहुंच प्रदान करने जैसी विभिन्‍न गतिविधियों के लिए करेगा. 
  • कंपनी नए बिजनेस वेंचर्स, पार्टनरशिप और अधिग्रहण में भी निवेश करेगी जबकि शेष बचे फंड को अन्‍य कार्पोरेटगतिविधियों के लिए इस्‍तेमाल किया जाएगा.   
  • IPO के पहले  Paytm ने 8,235 रुपये कीमत के शेयर सिंगापुर सरकार सहित  100  से अधिक इंस्‍टीट्यूशनल इनवेस्‍टर्स को आवंटित किए हैं. 
  • तीन नवंबर को जारी एक नियामक दस्‍तावेज के अनुसार,  पेटीएम ने 122 इंस्‍टीट्यूशनल इनवेस्‍टर्स से ब्‍याज प्राप्‍त किया जिन्‍होंने 2,150 रुपये प्रति शेयर की दर से  38.3 मिलियन से अधिक शेयर खरीदे थे. 
  • पेटीएम ब्रांड के तहत काम करने वाली डिजिटल कंपनी वन97 कॉम्युनिकेशंस ने बृहस्पतिवार को जानकारी दी थी कि पेटीएम का आरंभिक सार्वजनिक निर्गम आवेदन के लिये आठ नवंबर को खुलेगा,  इसके लिये कीमत दायरा 2,080-2,150 रुपये है. इसका मतलब है कि कंपनी का मूल्यांकन 1.44 लाख करोड़ रुपये से 1.48 लाख करोड़ रुपये के बीच होगा.
  • आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के लिये आवेदन 10 नवंबर तक दिए जा सकेंगे. 
  • पेटीएम का IPO देश के कारपोरेट इतिहास में सबसे बड़ा होने की संभावना है. यह कोल इंडिया लिमिटेड के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ेगा जिसने एक दशक सेअधिक समय पहले ₹ 15,000 करोड़ जुटाए थे. 

Your Comment