Skip to content

Domain Name क्या है, कैसे काम करता है और Domain के प्रकार

Domain Name क्या है, कैसे काम करता है

डोमेन नाम क्या है (What is Domain Name in Hindi) : इस ब्लॉग में हम आपको Domain Name क्या है, Domain Name कैसे काम करता है और Domain Name के प्रकार की पूरी जानकारी देंगे जो आपके लिए बहुत उपयोगी होगी। यह एक फ्रेंडली नेमिंग सिस्टम है जिससे हम किसी वेब पेज और वेब सर्वर का पता लगा सकते हैं।

वेबसाइट बनाने के लिए सबसे पहले डोमेन नाम जरुरी होता है। यह उन अक्षरों का संग्रह होता है जिन्हें इंटरनेट पर दर्ज करके आप अपनी वेबसाइट को उपलब्ध कराते हैं। जब आप एक डोमेन नाम को दर्ज करते हैं तो आपके ब्राउज़र उस डोमेन नाम को खोजता है और उस वेबसाइट को खोलता है जो उस डोमेन नाम से जुड़ा हुआ होता है। उदहारण के लिए आप इस वेबसाइट वेब ज्ञान हिंदी को webgyanhindi.com ब्राउज़र में दर्ज करके खोल सकते हैं।

इस पोस्ट में हम आपको डोमेन नाम के बारे में विस्तार से बताएंगे। इसके अलावा हम यह भी बताएंगे कि डोमेन नाम कैसे काम करता है और आप अपने वेबसाइट के लिए एक उचित डोमेन नाम कैसे चुन सकते हैं। आइए शुरु करते हैं :-

Domain Name क्या है (What is Domain Name in Hindi)

Domain Name या DNS (Domain Naming System) एक वेबसाइट के लिए एक यूनिक नाम होता है जिसका उपयोग वेबसाइट के पते के रूप में किया जाता है। ये IP Address का एक human readable version है।

इंटरनेट पर उपलब्ध होने के पहले सभी वेबसाइटों के लिए एक अभिन्न नाम प्रदान किया जाता है और सभी वेबसाइट अंदरूनी तौर पर किसी न किसी Server IP address से जुड़े हुए होते हैं। किसी भी वेबसाइट को इंटरनेट पर ढूंढने के लिए उसके address की आवश्यकता होती है लेकिन IP address इंसानों को आसानी से याद नहीं रहता। Domain Name वह आसान नाम है जिसे की हम याद रख सकते है।

डोमेन नाम को दो हिस्सों में विभाजित किया जाता है – नाम और एक्सटेंशन। नाम उस वेबसाइट का नाम होता है जो आप खोज रहे हैं जैसे www.example.com यहां, “example” नाम है। एक्सटेंशन वेबसाइट के उद्देश्य को दर्शाता है जैसे .com, .org, .net, .edu आदि।

Domain Name के प्रकार

डोमेन नाम मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं – 

1. Top Level Domain (TLD) :

Top Level Domains (TLD) को हम Internet Domain Extension के नाम से भी जाना जाता है. ये वो आखिरी वाला हिस्सा है जहाँ domain name खत्म होता है. Dot के बाद का हिस्सा. इसे सबसे पहले develop किया गया था. इस domain की मदद से आप अपने website को आसानी से Rank कर सकते हैं. ये बहुत ही ज्यादा SEO friendly है. और इसे Google Search Engine भी ज्यादा importance देता है।

कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं:

  1. .com – कमर्शियल वेबसाइटों के लिए
  2. .org – गैर-लाभकारी संगठनों के लिए
  3. .edu – शिक्षा संस्थाओं के लिए
  4. .gov – सरकारी संस्थाओं के लिए
  5. .net – नेटवर्क संबंधित वेबसाइटों के लिए
  6. .mil – सैन्य संस्थाओं के लिए
  7. .biz – व्यवसाय संबंधित वेबसाइटों के लिए
  8. .info – सूचना संबंधित वेबसाइटों के लिए
  9. .co – कमर्शियल वेबसाइटों के लिए (जो अधिकतर के लिए .com के साथ उपयोग किया जाता है)
  10. .io – टेक्नोलॉजी संबंधित वेबसाइटों के लिए

इन TLDs के अलावा भी बहुत सारे TLDs हैं, जो विभिन्न उद्देश्यों के लिए उपयोग किए जाते हैं।

2. Country Code Top Level Domain (CcTLD) :

इस प्रकार के Domain का इस्तमाल आम तोर पे किसी particular देश को नज़र में रखकर किया जाता है. ये किसी देश के Two Letter ISO CODE के आधार पे नामित होता है. उदहारण के तोर पे कुछ Important Domain Extension दिए है

  • .us: United States
  • .in: India
  • .ch: Switzerland
  • .cn: China
  • .ru: Russia
  • .br: Brazil

3. Subdomain :

subdomain आपके Main Domain Name का एक अंश होता है. subdomain को ख़रीदा नहीं जाता. अगर आप कोई भी Top Level Domains Name  खरीद लिया है तो आप उसे Subdomain Names में Divide कर सकते है।

जैसे की Hindime.net मेरा TLD Name है और मैं इसे Hindi.Abc.com और English.Abc.com में Divide कर सकता हूँ. ये बिलकुल ही free है इसके लिए आपको कोई Charge नहीं देने पढ़ते हैं।

Domain Name कैसे काम करता है ?

डोमेन नाम (Domain Name) एक unique नाम होता है जो इंटरनेट पर उपलब्ध websites को identify करने के लिए use किया जाता है। जब हम किसी website को खोलते हैं तो हम उस website के डोमेन नाम को browser में टाइप करते हैं।

Domain Name क्या है, कैसे काम करता है और Domain के प्रकार

डोमेन नाम का use website को Internet पर accessible बनाने के लिए किया जाता है। जब आप किसी website का डोमेन नाम browser में टाइप करते हैं, तो आपका computer Internet पर उस डोमेन नाम को search करता है और उससे जुड़े IP Address को lookup करता है। फिर वह IP Address का use करके website को ढूंढता है और उसे आपके computer पर दिखाता है।

इस तरह, डोमेन नाम website को identify करने के लिए use किया जाता है और उसे Internet पर Accessible बनाने में मदद करता है।

डोमेन नाम को खरीदने के लिए क्या करना होगा?

डोमेन नाम को खरीदने के लिए बहुत सारी Domain Registrar वेबसाइट्स हैं, जहाँ से आप अपने Blog या Website के लिए Domain खरीद सकते हैं। लेकिन यहाँ हम आपको सिर्फ Top-5 Domain Registrar वेबसाइट्स के बारे में बताएँगे जहां से आप अपने लिए डोमेन आसानी से ख़रीद सकते हैं। क्योंकि ये वेबसाइट्स Domain Parking के लिए सबसे Best हैं :-

GoDaddy.com

BigRock.in

Hostinger

NameCheap.com

Domains.google

मेरा अनुभव : डोमेन तो कम रूपये में आपको मिल जाते हैं, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण हैं होस्टिंग सर्वर, और ये आपको एक वेबसाइट बनाने के लिए खरीदना ही पड़ता है। जिसकी कीमत 100 प्रतिमाह से हजारो रूपये तक होती है। भारत में सर्वाधिक उपयोग किये जाने वाले होस्टिंग सर्विस Hostinger है, जहाँ आपको मुफ्त में एक डोमेन मिलेगा। यहाँ आप 149 रूपये महीने के हिसाब से 1 साल के लिए होस्टिंग बुक करें और असीमित ट्रैफिक को वेबसाइट पर लाए आपके सर्वर पर कोई असर नहीं होगा। होस्टिंगर की सपोर्ट सिस्टम भी बहुत बढ़िया है, जो कि हिन्दी और अंग्रेजी दोनों भाषा में आपके समस्या के समाधान के लिए 24 x 7 उपलब्ध होती है।

( यहाँ से hosting खरीदने पर फ्री domain ले सकते हैं।- Hostinger Best Service Refferal link )

Step 1: सबसे पहले, आपको अपने डोमेन नाम को रजिस्टर करने के लिए एक डोमेन रजिस्ट्रार का चयन करना होगा। आपको कुछ बेहतरीन विकल्पों को खोजना चाहिए जो आपके लिए सही हो सकते हैं।

Step 2: आपको उस डोमेन नाम की खोज करनी होगी जो आप खरीदना चाहते हैं। यदि आपका डोमेन नाम उपलब्ध नहीं है, तो आपको कुछ अलग चुनना होगा।

Step 3: जब आप डोमेन रजिस्ट्रार का चयन कर लेते हैं, तो आपको उनकी वेबसाइट पर जाकर अपने डोमेन नाम की रजिस्ट्रेशन करनी होगी। आपको इसमें अपनी प्रोफाइल जानकारी, पता, और भुगतान जानकारी भरनी होगी।

Step 4: डोमेन नाम की रजिस्ट्रेशन के लिए आपको भुगतान करना होगा। आप ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरीकों से भुगतान कर सकते हैं।

डोमेन नाम के लिए फीस कितनी होती है?

डोमेन नाम की फीस विभिन्न रजिस्ट्रार कंपनियों और डोमेन नाम की लंबाई और टॉप लेवल डोमेन से निर्भर करती है।कुछ टॉप लेवल डोमेन नाम, जैसे .com, .org और .net आमतौर पर अधिक फीस लेते हैं। अन्य टॉप लेवल डोमेन जैसे .info और .biz ज्यादा सस्ते होते हैं।

डोमेन नाम की लंबाई कितनी होती है?

डोमेन नाम की लंबाई विभिन्न टॉप लेवल डोमेनों पर निर्भर करती है। अधिकतम डोमेन नाम की लंबाई 63 वर्णों तक होती है।

कुछ टॉप लेवल डोमेनों, जैसे .com, .org और .net में डोमेन नाम की अधिकतम लंबाई 63 वर्ण होती है। अन्य टॉप लेवल डोमेनों में डोमेन नाम की अधिकतम लंबाई विभिन्न होती है।

डोमेन नाम के लिए वैधता सत्यापन

डोमेन नाम के लिए वैधता सत्यापन एक प्रक्रिया है जिसमें डोमेन नाम के मालिक के विवरण जाँचे जाते हैं ताकि उनकी पहचान सत्यापित की जा सके।

डोमेन नाम के मालिक की पहचान सत्यापित करने के लिए, रजिस्ट्रार कंपनियां अपने ग्राहकों से कुछ विवरणों की मांग करती हैं, जैसे कि पता, फोन नंबर, ईमेल आईडी आदि।

डोमेन नाम खरीदते समय ध्यान रखने वाली बातें क्या हैं?

डोमेन नाम खरीदते समय, आपको अपने बिजनेस या वेबसाइट के नाम से संबंधित एक उपयोगकर्ता फ्रेंडली नाम चुनना चाहिए।

आपको एक एसीओ फ्रेंडली डोमेन नाम चुनने की कोशिश करनी चाहिए। एसीओ फ्रेंडली नाम से मतलब है कि आपका डोमेन नाम आपकी वेबसाइट के विषय से संबंधित होना चाहिए ताकि यह गूगल सर्च रैंकिंग में अच्छी प्रदर्शन कर सके।

आपको सुनिश्चित करना चाहिए कि आपका डोमेन नाम आसानी से याद रखा जा सकता है। इससे आपके उपयोगकर्ता आसानी से आपकी वेबसाइट तक पहुंच सकते हैं और आपके वेबसाइट का पुनर्प्राप्त ट्रैफिक बढ़ सकता है।

आपको एक डोमेन एक्सटेंशन चुनना होगा, जो आपके बिजनेस या वेबसाइट के लिए सबसे उपयुक्त हो। डोमेन एक्सटेंशन का चयन अलग-अलग उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जैसे कि बिजनेस के लिए .com, संगठनों के लिए .org

आज आपने क्या सीखा

इस ब्लॉग पोस्ट में हमने डोमेन नाम के बारे में विस्तार से बात की है और यह समझाया है कि डोमेन नाम कैसे काम करता है। हमने यह भी बताया है कि डोमेन नाम का चयन करने से पहले आपको क्या ध्यान रखना चाहिए। यह ब्लॉग पोस्ट एक नए उपयोगकर्ता के लिए जो अपनी पहली वेबसाइट बना रहे हों, या अपने बिजनेस के लिए एक डोमेन नाम खरीदना चाहते हों के लिए महत्वपूर्ण होगा।

अगर आप एक नए बिजनेस या वेबसाइट के लिए डोमेन नाम खरीदने की सोच रहे हैं तो, आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। पहले तो आपको अपने बिजनेस या वेबसाइट के लक्ष्य और उपयोगकर्ताओं को समझने की आवश्यकता होगी। इसके बाद, आप अपने बिजनेस या वेबसाइट से संबंधित शब्दों और वाक्यों की एक सूची बना सकते हैं जिन्हें आप अपने डोमेन नाम में शामिल करना चाहते हैं।

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को डोमेन क्या है (What is Domain in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को इस Internet Term के बारे में समज आ गया होगा।

ये भी पढ़ें :

7 Comment on this post

  1. This is really interesting, You’re a very skilled blogger. I’ve joined your feed and look forward to seeking more of your magnificent post. Also, I’ve shared your site in my social networks!

  2. website creation ke liye sabse pahli jaroorat domain name ki hoti hai. aur aapne iske bare me itne achhe dhang se bataya.
    dhaybaad. mai apne small boutique ke liye ek achha sa website banana chahti thi. apke team se jo help mili usko mai shabdo me byan nhi kar sakti. bahut badhiya post likha hai aapne .. raghab

    1. इसके लिए मैं आपका आभारी हूँ ! … जरूर पढ़े वेबसाइट taraffic और google adsense के बारे में।

  3. डोमेन नाम से सम्बंधित जानकारी युक्त पोस्ट के लेखक का धन्यवाद। अपने टॉपिक से संबंधित अनुभवों को साझा करने के लिए आपका शुक्रिया।

    1. बहुत-बहुत धन्यवाद आपका अपने समय देने के लिए। मैं आशा करता हूँ कि हमारी वेबसाइट आपके लिए और भी उपयोगी साबित होगी।

Your Comment

Discover more from वेब ज्ञान हिन्दी

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading