MSME क्या है ? कैसे आसानी से MSME रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन करें ?

You are currently viewing MSME क्या है ? कैसे आसानी से MSME रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन करें ?

दोस्तों, आजकल बहुत से युवा किसी और के लिए काम करने के बजाय अपना खुद का व्यवसाय करना चाहता है| लेकिन ज्यादातर युवाओं के पास पैसों की समस्या होती है, इसलिए वो यह सोचने लगते हैं कि वो कभी खुद का Business नहीं कर पाएंगे, और भी लोग हैं जो ये सोचते हैं कि खुद का Business Start करने के लिए बहुत इन्वेस्टमेंट की आवश्यकता होती है | लेकिन यह बिलकुल गलत है | बहुत सारे ऐसे Business हैं जिन्हें कम पूंजी (Low Investment) से ही शुरू किया जा सकता है और उसके लिए सरकार से भी मदद मिलती है। उसके लिए MSME में रजिस्ट्रेशन कराना होता है। तो इस पोस्ट में जानेंगे कि MSME रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन कैसे करें और क्या है इसकी प्रक्रिया।

MSME क्या है ? MSME KYA HAI.

MSME का फुल फॉर्म मिनिस्ट्री ऑफ़ माइक्रो, स्मॉल एंड मेडियम इंटरप्राइजेज होता है। देश में मौजूद जो भी सूक्ष्म, छोटे और मध्यम उद्योगों से सम्बंधित नियम और कानून है तथा जरुरी होने पर नए कानूनों के निर्माण के लिए भारत सरकार के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय ( MINISTRY OF MICRO, SMALL & MEDIUM ENTERPRISES ) है।

जो की देश छोटे- बड़े व्यापारिक संगठनों को उनके व्यापार में कठिनाईयों का सामना ना करना पड़े, इस बात का ध्यान रखते हुए उन्हें एमएसएमई में आसानी से पंजीकरण करने की सुविधा प्रदान करती है.

MSME वह संस्था है जो कुशल और अकुशल व्यापारी को छोटे-छोटे उद्योग लगाने या बेरोजगारों को रोजगार के अवसर प्रदान करके भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में अपनी अच्छी भूमिका निभाते है। ये निर्यात के क्षेत्र में योगदान, निर्माण क्षेत्र को बढ़ाना और कच्चे माल, बुनियादी सामान आपूर्ति के द्वारा बड़े उद्योगों को समर्थन प्रदान करते है.

MSME के प्रकार

Investment और Turnover के आधार पर सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम ( MSME ) तीन तरह के होते हैं।

  • माइक्रो या सूक्ष्म उद्योग : सूक्ष्म उद्योग सबसे छोटी संस्था है. इस विनिर्माण व्यापार के अंतर्गत संयंत्र और मशीनरी में कम से कम 1 करोड़ तक का निवेश कर सकते है जिसका टर्नओवर 5 करोड़ होना चाहिए.
  • लघु उद्योग : इसके अंतर्गत छोटे विनिर्माण उद्योग के लिए संयत्र और मशीनरी में 10 निवेश कर सकते है, जिसका टर्नओवर कम से कम 50 करोड़ होना चाहिए.
  • मध्यम उद्योग : मध्यम विनिर्माण उद्योग के लिए संयत्र और मशीनरी में 20 करोड़ का निवेश कर सकते है जिसका टर्नओवर कम से कम 100 करोड़ होना चाहिए.

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम ( MSME ) दो तरह के होते हैं।

  • मैनुफैक्चरिंग उद्योग जिसमें नई चीजों को बनाने यानी मैनुफैक्चरिंग का काम किया जाता है।
  • सर्विस सेक्टर, जिसमें सेवा देने करने का काम किया जाता है। इस सेक्टर में लोगों को और विभिन्न संस्थाओं का काम सर्विस देने का होता है।

ये भी पढ़ें : 10 ऐसे बिजनेस आइडिया जो गाँव से शुरू कर सकते

MSME Registration के लाभ

सूक्ष्म एवं मध्यम वर्गीय उद्योगपतियों को इसके अंतर्गत कई तरह के फायदे मिलते हैं, जैसे कम ब्याज दर पर लोन, उत्पादन शुल्क में छूट, योजना कर सब्सिडी आदि। इसके अलावा इसके अंतर्गत पंजीकृत सभी व्यापारियों के व्यवसाय से संबंधित कोई लाइसेंस या प्रमाणिकता आसानी से और कम समय में मिल जाती है। MSME Registration से होने वाले लाभ इस प्रकार हैं-

  • बैंकों से आसान वित्त उपलब्धता
  • सरकारी निविदाएं खरीदने में प्राथमिकता
  • प्रत्यक्ष कर कानून के तहत छूट
  • ISO प्रमाणन पर सब्सिडी
  • मूल्य वरीयता में वेटेज (उद्यम आधार पर भिन्न हो सकता है)
  • बैंकों से ब्याज दर में कमी
  • नि: शुल्क लागत सरकार निविदाओं
  • स्टाम्प ड्यूटी और ऑक्टोई लाभ
  • बिजली बिल में रियायत
  • निर्माण/उत्पादन क्षेत्र उद्यम के लिए आरक्षण नीतियां
  • आईएसओ प्रमाणन खर्च की प्रतिपूर्ति
  • उत्पाद शुल्क छूट योजना

रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आधार नंबर
  • पैन नंबर
  • व्यवसाय का पता
  • बैंक खाता संख्या
  • बुनियादी व्यावसायिक गतिविधि
  • एनआईसी 2 अंकों का कोड
  • निवेश विवरण (संयंत्र/उपकरण विवरण)
  • टर्नओवर विवरण (नई एमएसएमई परिभाषा के अनुसार)
  • पार्टनरशिप डीड
  • बिक्री और खरीद बिल प्रतियां
  • खरीदी गई मशीनरी के लाइसेंस और बिल की प्रतियां

MSME रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन कैसे करें (MSME Registration Online)

जो व्यवसाय एमएसएमई के लिए सरकार द्वारा घोषित लाभों का लाभ उठाना चाहते हैं, उन्हें अपने व्यवसाय को ‘उद्योग आधार ज्ञापन (यूएएम) पोर्टल’ पर पंजीकृत करना होगा। प्रत्येक उपयोगकर्ता के लिए पंजीकरण प्रक्रिया काफी सरल और मुफ्त है।

अपना व्यवसाय ऑनलाइन पंजीकृत करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें:

  • जारी किये गए पोर्टल या लिंक https://udyamregistration.gov.in/Government-India/Ministry-MSME-registration.htm पर जाएं जहां आपको एक फॉर्म भरना होगा।
  • यदि आप पहली बार अपने व्यवसाय को एमएसएमई के रूप में पंजीकृत कर रहे हैं, तो पेज पर पहले लिंक पर क्लिक करें या फॉर्म खोलने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आधार नंबर और नाम दर्ज करें और ‘Validate & Generate OTP’ पर क्लिक करें।
  • सत्यापन हो जाने के बाद, आपको पैन विवरण भरना होगा। यदि आपके पास अभी तक पैन कार्ड नहीं है तो आप नो विकल्प का चयन कर सकते हैं।
  • इसे पोस्ट करें, आपको 5-24 फ़ील्ड नंबर वाले फॉर्म को भरना होगा।
  • फॉर्म के अंत में, आपके फोन पर फिर से एक ओटीपी अनुरोध भेजा जाएगा। फॉर्म को सफलतापूर्वक जमा करने के लिए ओटीपी और सत्यापन कोड दर्ज करें।
  • सफल पंजीकरण के बाद, पंजीकरण संख्या के साथ एक “धन्यवाद” संदेश दिखाई देगा। भविष्य के संदर्भ के लिए उस नंबर को संभाल कर रखें।
  • एक बार आवेदन पत्र जमा हो जाने के बाद, अनुमोदन और पंजीकरण को पूरा होने में 2-3 दिन लग सकते हैं।
  • यदि आवेदन स्वीकृत हो जाता है, तो पंजीकरण किया जाएगा और एमएसएमई प्रमाणपत्र आपको ईमेल के माध्यम से वितरित किया जाएगा।
  • जब आप एम एस एम ई उद्योग शुरू करते है तब आपको एक अंतिम पंजीकरण के लिए आवेदन करना होता है,जिसके बाद आपको अंतिम एमएसएमई प्रमाणपत्र दिया जाता है. उत्पादन शुरू होने के बाद आप स्थायी प्रमाणपत्र के लिए आवेदन कर सकते है. 

इन योजनाओं का लाभ लेने के लिए छोटे और मध्यम उद्योगों को MSME Registration कराना अनिवार्य होता है। एमएसएमई रजिस्ट्रेशन होने से इन उद्योगों को एक कार्ड मिलता है। इस कार्ड को एमएसएमई रजिस्ट्रेशन कार्ड कहते हैं। इस एमएसएमई कार्ड पर उद्योग का नाम, उद्योग की श्रेणी, उद्योग की जगह, उधमी का नाम और एमएसएमई रजिस्ट्रेशन नंबर लिखा होता है। आशा करता हूँ कि इस इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको समझ में आ गयी होगी कि MSME क्या है और आप कैसे आसानी से MSME Registration करा सकते हैं।

ये भी पढ़ें : 16 Non-Stop Passive Income Ideas in Hindi पैसिव इनकम से पैसे कमाने के 16 नॉन-स्टॉप जुगाड़

Your Comment