Skip to content

प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी

Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी ( Dr. A P J Abdul Kalam Biography in hindi ) : दोस्तों आज हम आपको डॉ एपीजे अब्दुल कलाम जो भारत के पूर्व राष्ट्रपति भी रह चुके है और जिनका पूरा नाम अवुल पकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम है। वह भारत के महान वैज्ञानिक और राजनीतिज्ञ थे। इन्होनें भारत के मिसाइल और परमाणु हथियार कार्यक्रमों में अहम भूमिका निभाई। आज हम इस लेख में APJ Abdul Kalam Wife, Age, Networth, प्रारंभिक जीवन, Books, Awards, आदि के बारें में विस्तारपूर्वक जानकारी प्राप्त कर सकते है।

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का संक्षिप्त जीवन परिचय

डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम स्मारक फोटो
डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम

15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के जिला रामेश्वरम के धनुष्कोडी में डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम का जन्म हुआ था। उनका पूरा नाम अबुल पक्कीर जैनुलअबेदीन अब्दुल कलाम था। अब्दुल कलाम के पांच भाई और पांच बहने थी। इनका बचपन बेहद गरीबी में बीता। इनके पिताजी मछुआरों को नाव भारे पर देते थे। जब कलाम साहब 10 वर्ष के थे तो अख़बार बेचा करते थे।

शायद आप नहीं जानते होंगे, अब्दुल कलाम जी पायलट बनना चाहते थे लेकिन रामेश्वरम जाने के बाद और अधिक ऊँचा उड़ान भरने की सोच उन्हें अंतरिक्ष विज्ञान की ओर ले गया। भारत के परमाणु परिक्षण में इनका अहम् योगदान रहा।

उस अखबार बेचने वाले बच्चे से भारत के प्रथम नागरिक यानि राष्ट्रपति बनने के बीच की सभी घटनाक्रम काफी रोचक और प्रेरणादायक है।

Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी ( Dr. A P J Abdul Kalam Biography in hindi )

एपीजे अब्दुल कलाम प्रारंभिक जीवन

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम प्रारंभिक जीवन: अब्दुल कलाम जी का जन्म तमिलनाडु में रामेश्वरम के तमिल मुस्लिम परिवार में 15 अक्टूबर 1931 को हुआ था। इनके पिता का नाम जैनलाब्दीन (Father’s Name) था जो पेशे से नावों को किराये पर देने और बेचने का काम करते थे। कलाम जी के पिता अनपढ़ थे पर उनके विचार आम सोच से कही उपर थी। वह उच्च विचारों के धनी व्यक्ति थे और अपनी सभी बच्चों को उच्च शिक्षा देना चाहते थे। इनकी माता का नाम असीम्मा (Mother’s Name) था जो एक घरेलू गृहिणी थी।

अब्दुल कलाम कुल पांच भाई बहन थे जिसमें तीन बड़े भाई और एक बड़ी बहन थी। जब अब्दुल कलाम का जन्म हुआ तब इनका परिवार गरीबी से जूझ रहा था। परिवार की मदद करने के लिए डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने छोटी सी उम्र में ही अखबार बेचने का काम शुरू कर दिया था। स्कूल के दिनों में वह पढ़ाई में सामान्य थे परन्तु नई चीजों को सीखने के लिए हमेशा तत्पर रहते थे। चीजों को सीखने के लिए वह हमेशा तैयार रहते थे और घंटों पढ़ाई किया करते थे। गणित विषय इनका मुख्य और रूचि वाला विषय था।

Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी ( Dr. A P J Abdul Kalam Biography in hindi )

Dr Abdul Kalam Biography wikipedia in hindi

पूरा नामअवुल पकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम (डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम)
जन्म (Date of Birth)15-अक्टूबर -1931
जन्म स्थान (Birth Place)धनुषकोडी, रामेश्वरम, तमिलनाडु, भारत
पिता का नाम (Father’s Name)जैनुलाब्दीन
माता का नाम (Mother’s Name)असीम्मा
पत्नी (Wife)नहीं है (शादी नहीं की)
व्यवसायइंजीनियर, वैज्ञानिक, लेखक, प्रोफेसर, राजनीतिज्ञ
राष्ट्रीयताभारतीय
निधन27 जुलाई 2015, शिलांग, मेघालय, भारत
राष्ट्रपति का कार्यकाल25 जुलाई 2002 से 25 जुलाई 2007 तक

Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी ( Dr. A P J Abdul Kalam Biography in hindi )

अब्दुल कलाम प्रारंभिक शिक्षा (Dr APJ Abdul Kalam Education)

Dr APJ Abdul Kalam जी की प्रारंभिक शिक्षा Schwartz Higher Secondary School रामानाथपुरम, तमिलनाडु से मैट्रिक की शिक्षा प्राप्त की। स्कूल के दिनों में वह अपने एक शिक्षक से बहुत ज्यादा प्रभावित थे जिनका नाम अयादुरै सोलोमन था। उनके शिक्षक का मानना यह था कि ख्वाहिश, उम्मीद और यकीन को हमेशा अपने जीवन में रखना चाहिए। इन मूल मंत्रों पर काबू करना बहुत जरूरी है। इन तीन मूल मंत्रों के कारण आप अपनी मंजिल को बिना किसी परेशानी के पा सकते है। इन मूल मंत्रो को अब्दुल कलाम जी ने अपने आखिरी समय तक अपने जीवन में कायम रखा।

अपनी प्रांरभिक शिक्षा पूरी करने के बाद डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने तिरुचिरापल्ली के सेंट जोसेफ कॉलेज से 1954 भौतिक विज्ञान में बी0एस0सी (B.Sc) की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद 1955 में वह मद्रास चले गये। कलाम जी को लड़ाकू पायलट बनना था जिसके लिए उन्होनें Institute of Technology in Aerospace Engineering में शिक्षा ग्रहण की परन्तु परीक्षा में उन्हें नौवां स्थान मिला जबकि आईएएफ (IAF) ने आठ परिणाम घोषित किये जिसके कारण वह सफल नहीं हो पायें।

स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद Dr APJ Abdul Kalam एक प्रोजेक्ट पर काम करने लगे थे और प्रोजेक्ट इंचार्ज ने रॉकेट के मॉडल मात्र तीन दिन में पूरा करने का समय दिया था और साथ में यह भी कहा था कि अगर यह मॉडल ना बन पाया तो उनकी स्कॉलरशिप रद्द हो जायेंगी। फिर क्या था? अब्दुल कलाम जी ने न रात देखी, ना ही दिन देखा, ना भूख देखी, ना ही प्यास देखी। मात्र 24 घंटे में अपने लक्ष्य को पूरा किया और रॉकेट का मॉडल तैयार कर दिया। प्रोजेक्ट इंचार्ज को विश्वास नहीं हुआ कि यह मॉडल इतनी जल्दी पूरा हो जायेंगा। उस मॉडल को देखकर प्रोजेक्ट इंचार्ज भी आश्चर्यचकित हो गए थे। इस प्रकार डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने अपने जीवन कई चुनौतियों का डटकर सामना किया।

Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी ( Dr. A P J Abdul Kalam Biography in hindi )

अब्दुल कलाम करियर [Dr APJ Abdul Kalam Biography]

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम करियर: स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद कलाम जी ने रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन में एक वैज्ञानिक के रूप में शामिल हुए। इन्होनें प्रसिद्ध वैज्ञानिक विक्रम साराभाई के साथ भी काम किया। 1969 में डॉ एपीजे अब्दुल कलाम इसरो (ISRO) आ गये और वहां पर इन्होनें परियोजना निर्देशक के पद पर काम किया। इसी पद पर काम करते समय भारत का प्रथम उपग्रह रोहिणी पृथ्वी की कक्षा में वर्ष 1980 में स्थापित किया गया। इसरो में शामिल होना डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के लिए बहुत ही सौभाग्य की बात थी क्योंकि उनको ऐसा लगा कि जिस उद्देश्य के लिए वह जी रहे है उनका वह उद्देश्य पूरा होने लगा है।

वर्ष 1963-64 में अब्दुल कलाम ने अमेरिकी संगठन नासा (NASA) में भी दौरा किया। भारत के प्रसिद्ध परमाणु वैज्ञानिक राजा रमन्ना ने पहला परमाणु परीक्षण किया जिसमें कलाम जी को परीक्षण करने के लिए बुलाया गया। 1970-1980 के दशक में डॉ अब्दुल कलाम अपने कार्याे की सफलता के कारण देश के प्रसिद्ध वैज्ञानिक बन गये और ख्याति बढ़ने के कारण उस समय की प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने अपने केबिनेट की मंजूरी के बिना ही कुछ गुप्त कार्यों के लिए अनुमति दी थी।

Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी ( Dr. A P J Abdul Kalam Biography in hindi )

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का राष्ट्रपति बनने का सफर

भारत के राष्ट्रपति रहने के दौरानः- Dr Kalam अपने कार्यों की सफलता और अपनी उपलब्धियों के कारण राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की सरकार ने डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को 2002 को राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार बनाया। अब्दुल कलाम जे ने अपने प्रतिद्वंदी लक्ष्मी सहगल को भारी मतों से हराकर 25 जुलाई 2002 को भारत के 11वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। Dr APJ Abdul Kalam एक ऐसे राष्ट्रपति है जिनको राष्ट्रपति बनने से पहले भारत रत्न का पुरस्कार मिल चुका है। अब्दुल कलाम से पहले दो और राष्ट्रपति डॉ जाकिर हुसैन और डॉ राधाकृष्णन को यह भारत रत्न का पुरस्कार भी मिल चुका है।

राष्ट्रपति के दायित्व से मुक्ति होने के बाद डॉ कलाम ने कई शैक्षणिक संस्थानों में मानद फेलो व एक विजिटर प्रोफेसर बन गये थे। उन्होनें बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में जैसे मानी यूनिवर्सिटी में भी सूचना प्रौद्योगिकी में कार्य किया।

कलाम हमेशा से ही देश के युवाओं के लिए प्रेरणास्त्रोत रहे है। डॉ कलाम हमेशा से युवाओं के भविष्य को बेहतर बनाने के लिए कई तरह के प्रयास करते रहें है। अब्दुल कलाम का उद्देश्य यह था कि वह भारत से भ्रष्टाचार को हटा दें। देश के युवाओं ने उनकी लोकप्रियता को देखकर डॉ अब्दुल कलाम को दो बार “एम टी वी यूथ आइकॉन ऑफ द ईयर अवार्ड“ से नवाजा था।

Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी ( Dr. A P J Abdul Kalam Biography in hindi )

Dr Abdul Kalam Awards (उपलब्धियां एवं पुरस्कार)

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने कई पुरस्कार और उपलब्धियों को अपने आदर्श व्यक्तित्व एवं सादे विचारों के बलबूते पर पाया है। Dr Abdul Kalam Awards List / सूची नीचे उपलब्ध है:

सम्मान का वर्षपुरस्कार का नामपुरस्कार को देने वाली संस्था
2014डॉक्टर ऑफ साइंसएडिनबर्ग विश्वविद्यालय, यूनाइटेड किंगडम
2012डॉक्टर ऑफ लॉज मानद उपाधिसाइमन फ्रेजर विश्वविद्यालय
2010डॉक्टर ऑफ इंजीनियरिंगयूनिवर्सिटी ऑफ वाटरलू
2009मानद डॉक्टरेटऑकलैंड विश्वविद्यालय
2009हूवर मेडलएमएसएमई फाउंडेशन
2009वोन कॉम विंग्स अंतरराष्ट्रीय अवार्डकेलिर्फोनिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
2008डॉक्टर ऑफ इंजीनियरिंगनानयांग टेक्नोलॉजिकल विश्वविद्यालय, सिंगापुर
2008डॉक्टर ऑफ साइंसअलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़
2000रामानुजन पुरस्कारअल्वारेज शोध संस्थान, चेन्नई
1998वीर सावरकर पुरस्कारभारत सरकार
1997इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कारभारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस
1997भारत रत्नभारत सरकार
1990पद्म विभूषणभारत सरकार
1981पद्म भूषणभारत सरकार

Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी ( Dr. A P J Abdul Kalam Biography in hindi )

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम द्वारा लिखी गयी कुछ प्रसिद्ध किताबें (Books)

किताबेंः अब्दुल कलाम जी ने अपने विचारों को अपनी किताबों में भी डाला है। इन पुस्तकों को विदेशी भाषाओ और भारत के कई अन्य भाषाओं में अनुवाद किया जा चुका है। जिनके नाम इस प्रकार है:

अब्दुल कलाम जी की चिंतनपरक रचनायें

  • इग्नाइटेड माइंडस: अनलीशिंग द पावर विदीन इंडिया 
  • इंडिया: माय-ड्रीम
  • एनविजनिंग अन एमपावर्ड नेशन: टेक्नालजी फार सोसायटल ट्रांसफारमेशन 

अब्दुल कलाम जी की आत्मकथात्मक रचनायें

  • विंग्स ऑफ फायर: एन आटोबायोग्राफी ऑफ एपीजे अब्दुल कलाम : सह लेखक – अरुण तिवारी
  • साइंटिस्ट टू प्रेसिडेंट 
  • माय जर्नी (मेरी जीवनयात्रा)

Film: 2011 में आई एक फिल्म जिसका नाम “I am Kalam“ है जिसमें एक गरीब लड़का जिसके मन में कलाम के सकारात्मक विचारों को चित्रित किया गया। उनके सम्मान में वह लड़का अपना नाम कलाम रख लेता है। उसको बहुत ही खुबसूरती से दिखाया गया है।

Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी ( Dr. A P J Abdul Kalam Biography in hindi )

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का निधन

27 जुलाई 2015 को डॉ कलाम 84 साल के उम्र में भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM) शिलांग में रहने योग्य ग्रह पर अपना विचार व्यक्त कर रहे थे जब उन्हें कार्डियक अटैक हुआ और वो वहीं बेहोश हो गए। लगभग शाम को 06:30 बजे उन्हें बेथानी अस्पताल में ICU में ले जाया गया जहां दो घंटे के बाद उनकी मृत्यु हो गयी। 30 जुलाई 2015 को उनके पैतृक गांव रामेश्वरम के पास उनका अंतिम संस्कार हुआ। उनके अंतिम अनुष्ठान के समय कम से कम 3,50,000 लोग शामिल थे। जिसमें भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, तमिलनाडु के राज्यपाल, कर्नाटक केरल और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री आदि लोग शामिल थे।

Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी ( Dr. A P J Abdul Kalam Biography in hindi )

डॉ कलाम के व्यक्तिगत जीवन

प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी

कलाम अपने व्यक्तिगत जीवन में पूरी तरह अनुशासन का पालन करने वालों में से थे। ऐसा कहा जाता है कि वे क़ुरान और भगवद् गीता दोनों का अध्ययन करते थे। कलाम ने कई स्थानों पर उल्लेख किया है कि वे तिरुक्कुरल का भी अनुसरण करते हैं, उनके भाषणों में कम से कम एक कुरल का उल्लेख अवश्य रहता था। राजनीतिक स्तर पर कलाम की चाहत थी कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत की भूमिका का विस्तार हो और भारत ज्यादा से ज्यादा महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाये। भारत को महाशक्ति बनने की दिशा में कदम बढाते देखना उनकी दिली चाहत थी।

उन्होंने कई प्रेरणास्पद पुस्तकों की भी रचना की थी और वे तकनीक को भारत के जनसाधारण तक पहुँचाने की हमेशा वक़ालत करते रहते थे। बच्चों और युवाओं के बीच डा. क़लाम जी अत्यधिक लोकप्रिय थे। वह भारतीय अन्तरिक्ष विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान के कुलपति भी थे। वे जीवनभर शाकाहारी रहे।

इस प्रकार आज हमने डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के आत्म जीवन के बारें में बताया। आशा करते है आपको डॉ अब्दुल कलाम बायोग्राफी पसंद आयी होगी और आप इसको अपने दोस्तों से शेयर करेंगे।

Dr. A P J Abdul Kalam की जीवनी ( Dr. A P J Abdul Kalam Biography in hindi )

FAQs – APJ Abdul Kalam Biography

प्रश्न: भारत का मिसाइल मैन किसे कहाँ जाता हैं?

उत्तर: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को उनके परमाणु और मिसाइल क्षेत्र में योगदान के कारण इनको मिसाइल मैन के नाम से जाना जाता है।

प्रश्न: अब्दुल कलाम का शिक्षा के क्षेत्र पसंदीदा विषय (Subject) कौन सा था?

उत्तर: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को बचपन में गणित विषय (Mathematics Subject) बहुत पसंद था।

प्रश्न: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम की पत्नी का नाम क्या था ?

उत्तर: अब्दुल कलाम अविवाहित थे। उनकी कोई पत्नी नहीं थी।

प्रश्न: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम किस किताब के लेखक हैं ?

उत्तर: अब्दुल कलाम जी द्वारा लिखी गयी मुख्य किताबें – विंग्स ऑफ फायर, माय जर्नी, साइंटिस्ट टू प्रेसिडेंट, एनविजनिंग अन एमपावर्डनेश, इंडिया: माय-ड्रीम, इग्नाइटेड माइंडस: अनलीशिंग द पावर विदीन इंडिया।

प्रश्न: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को भारत रत्न से कब सम्मानित किया गया ?

उत्तर: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को 1997 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया ।

प्रश्न: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को पद्म भूषण से कब सम्मानित किया गया ?

उत्तर: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को 1981 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया ।

प्रश्न: डॉ अब्दुल कलाम भारत के राष्ट्रपति कब बने?

उत्तर: 25 जुलाई 2002 को अपने प्रतिद्वंदी लक्ष्मी सहगल को हरा कर 11वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।

प्रश्न: डॉ अब्दुल कलाम का निधन कब हुआ था?

उत्तर: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम जी का निधन 27 जुलाई 2015 को शाम के समय कार्डियक अटैक के कारण हुआ था।

Source : https://icdsupweb.org/dr-apj-abdul-kalam-biography-in-hindi/

Read More :

Join the conversation

Your email address will not be published. Required fields are marked *